विकिलीक्स के सह-संस्थापक जूलियन असांजे को लंदन में Ecuadorian दूतावास से गिरफ़्तार कर लिया गया है.

पिछले सात साल से जूलियन असांजे Ecuador के दूतावास में स्वीडेन की गिरफ़्तारी से बचने के लिए शरण लिए हुए थे, उनके ऊपर यौन हिंसा का आरोप लगा था, जिसे बाद में हटा लिया गया.

Source: Euronews

मौके पर मौजूद पुलिस ने मीडिया को बताया कि उन्हें अमेरिका प्रत्यर्पण अनुरोध मामले में कोर्ट में सरेंडर ने करने की वजह से गिरफ़्तार किया गया है.

Ecuador के राष्ट्रपति ने कहा कि वो अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों का उल्लंघन की वजह से जूलियन असांजे से अपने राजनैतिक आश्रय को वापस लेते हैं.

Source: ExpressVPN

हालंकि विकिलीक्स ने ट्वीट करके कहा है कि Ecuador 'अंतरराष्ट्रीय क़ानूनों का उल्लंघन' का हवाला देकर ग़ैरक़ानूनी तरीके से जूलियन असांजे से राजनैतिक शरण वापस ले रहा है.

ब्रिटेन के गृह सचिव Sajid Javid ने ट्वीट किया, 'मैं कंफ़र्म करता हूं कि जूलियन असांजे पुलिस की हिरासत में हैं और सही तरीके से इंग्लैंड के न्याय का सामना करेंगे.'

विकिलीक्स का इतिहास

असांजे ने 2006 में इसकी स्थापना की और इसका मक़सद था गुप्त दस्तावेज़ों और तस्वीरों को छापना. ये सबसे पहले ख़बरों में तब आया, जब उसने चार साल बाद अमरिकी सैनिकों को हैलिकॉप्टर से बैठ कर इराक में आम नागरिकों पर गोली चलाने की वीडियो रिलीज़ की.

Source: torontosun.com

47 वर्षिय असांजे 2012 से लंदन में Ecuador को दूतावास में रह रहे थे.

BBC के डिप्लोमैटिक संवादाता James Landale का अनुमान है कि इंग्लैंड की न्यायिक प्रक्रिया से गुज़रने के बाद जूलियन असांजे को अमेरिका हस्तांतरित कर दिया जाएगा.

इंग्लैंड के विदेश मंत्री Sir Alan Duncun ने कहा कि गिरफ़्तारी के बाद दोनों देशों के बीच व्यापक बातचीत हुई है.