कानपुर में गुरुवार रात क़रीब साढ़े 12 बजे हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हुई ताबड़तोड़ फ़ायरिंग में सीओ समेत 8 पुलिसकर्मी शहीद हो गए. जबकि कई सिपाहियों को गंभीर हालत में कानपुर के रीजेंसी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है.  

Source: amarujala

घटना कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू गांव की बताई जा रही है. गुरुवार रात क़रीब साढ़े 12 बजे बिठूर और चौबेपुर पुलिस ने मिलकर हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के गांव बिकरू में उसके घर पर दबिश दी. इस दौरान विकास और उसके 8-10 साथियों ने पुलिस पर ताबड़तोड़ फ़ायरिंग शुरू कर दी. बदमाशों ने गोलियां घर के अंदर और छतों से चलाई थीं. 

Source: amarujala

8 पुलिसकर्मी शहीद 7 घायल

इस हमले में शहीद होने वाले पुलिसकर्मियों में सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा, थाना प्रभारी शिवराजपुर महेश चंद्र यादव, चौकी इंचार्ज मंधना अनूप कुमार सिंह, सब इंस्पेक्टर नेबू लाल, सिपाही सुल्तान सिंह, सिपाही राहुल कुमार, सिपाही बबलू और सिपाही जितेंद्र शामिल हैं. जबकि एसओ कौशलेंद्र, दरोगा प्रभाकर पांडेय, सिपाही अजय सेंगर, अजय कश्यप, शिवमूरत, होमगार्ड जयराम पटेल समेत 7 पुलिसकर्मियों को भी गोलियां लगीं हैं. वहीं अजय सेंगर और शिवमूरत की हालत बेहद गंभीर बताई जा रही है. 

Source: amarujala

इस दौरान किस्मत से बच निकले सिपाही विकास बघेल ने बताया कि, पुलिस की जीप जैसे ही बिकरू गांव पहुंची और सभी पुलिसकर्मी गाड़ी से उतरे ही थे तभी दो मंज़िला मकान की छत पर हथियारों से लैस क़रीब 20 से 30 लोगों ने हमला कर दिया.  

बताया जा रहा है कि, पुलिस टीम पर जिस तरीक़े से हमला हुआ है, उससे आशंका है कि बदमाशों को पुलिस की दबिश की भनक मिल गई थी. इस बीच पुलिस के गांव पहुंचने से पहले ही बदमाशों ने हमले की तैयारी कर ली थी.   

Source: amarujala

कौन है ये हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे? 

कौन है ये हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे? विकास दुबे एक ख़ूंख़ार अपराधी है, जिस पर 2003 में कानपुर के शिवली थाने में घुसकर तत्कालीन श्रम संविदा बोर्ड के चेयरमैन राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त भाजपा नेता संतोष शुक्ला की हत्या का आरोप लगा है. हालांकि, बाद में राजनीतिक दलों से सांठ-गांठ के चलते वो इस केस से बरी हो गया था. इसके अलावा विकास पर यूपी में 2 दर्जन से अधिक गंभीर केस दर्ज हैं.

Source: zeenews

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना में शहीद होने वाले पुलिसकर्मियों के परिजनों के प्रति शोक और अपनी संवेदना व्यक्त की है. योगी ने डीजीपी एच.सी. अवस्थी से अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई का निर्देश दिया है. इसके साथ ही पूरे मामले की रिपोर्ट भी मांगी है.