ब्रिटेन स्थित अंतरराष्ट्रीय सिख चैरिटी संस्था, खालसा एड ने संसद में पारित दो कृषि सुधार क़ानून के खिलाफ़ प्रदर्शन कर रहे किसानों को अपना समर्थन दिया है.

पिछले कुछ दिनों से किसानों का विरोध प्रदर्शन व्यापक स्तर पर हो रहा है. इस दौरान खालसा ऐड के स्वयंसेवकों ने प्रदर्शनकारियों को भोजन और पानी मुहैया कराया.

Source: Indiatimes

NGO के अनुसार, उन्होंने एक कामचलाऊ किचन भी बनाया है जिसमें 15,000 से अधिक आंदोलनकारियों के लिए खाना बनता है. Indiatimes की एक रिपोर्ट के अनुसार एक स्वयंसेवक का कहना है कि "हालांकि किसान संघों ने मदद करने से इनकार कर दिया है, फ़िर भी हम उनके साथ अपनी एकजुटता दिखाने के लिए यहां हैं."   

दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में लोगों की मदद करने के लिए खालसा एड जाना जाता है. ये संस्था अलग-अलग जगहों पर लंगर का आयोजन करते आई है. खालसा एड ने कहा कि उनके स्वयंसेवक मनसा, जालंधर, बरनाला और शंब में प्रदर्शन कर रहे किसानों के लिए लंगर का आयोजन कर रहे हैं.

Source: Indiatimes

शुक्रवार को आंदोलनकारी किसानों ने केंद्र सरकार पर दबाव डालने के लिए सड़कों को ब्लॉक कर दिया था. हरभजन मान और रंजीत बावा सहित कई प्रमुख पंजाबी गायकों ने भी नाभा में एक किसान विरोध प्रदर्शन में भाग लिया. अभी इस नये क़ानून को राष्ट्रपति की सहमति मिलना बाकी है. 

Source: Indiatimes

पूरे राज्य को बंद कराने को लेकर 31 किसान संगठन साथ आये और जगह-जगह मार्च निकाला गया. इस दौरान बसों व ट्रेनों का परिचालन पूरी तरीके से बंद रहा. कई स्थानों पर दुकानें, व्यावसायिक प्रतिष्ठान और सब्ज़ी बाज़ार बंद रहे. दुकानदारों से अपील की गई है कि वे किसानों के समर्थन में अपनी दुकानें बंद रखें. किसानों ने 'रेल रोको' आंदोलन भी शुरू कर दिया है.  

Source: Indiatimes