अंतर्राष्ट्रीय एनजीओ, खालसा एड ने दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर एक किसान मॉल की स्थापना की है. 
ANI की रिपोर्ट के अनुसार, इस मॉल में कई ज़रूरत की चीज़ें मिल रही हैं. मॉल में टूथब्रश, टूथपेस्ट, साबुन, शैम्पू, वैसलीन, कंघी, मफ़लर, हिटिंग पैड, नी कैप, सैनिटरी पैड्स, जूते, थर्मल सूट, शॉल और कंबल जैसी चीज़ें रखी गई हैं. 

Source: The Economic Times

The Tribune की रिपोर्ट के अनुसार इससे पहले भी रिलीफ़ मटैरियल के स्टॉल्स लगाए गए थे जहां काफ़ी भीड़ उमड़ी थी. इस वजह से कई प्रदर्शकों को उनके साइज़ का सामान नहीं मिल सका था और कई लोगों को उम्र की वजह से भी सेवा नहीं मिल पाई थी.

मॉल के मैनेजर ने ANI से बात करते हुए कहा, 

हम खालसा एड के ज़रिए किसानों को टोकन देते हैं जो वो किसान मॉल में दिखाकर ज़रूरत का सामान ले सकते हैं. वो यहां टोकन के साथ आते हैं. हमने यहां उपलब्ध चीज़ों की लिस्ट बनाई है. रोज़ाना ज़रूरत पड़ने वाली सारी चीज़ें यहां मौजूद हैं. खालसा एड के वॉलंटीयर किसान की ज़रूरत के अनुसार चीज़ें उठाते हैं और एक बैग में देते हैं. हम रोज़ाना 500 टोकन देते हैं.

                    - गुरु चरन

Source: The Economic Times

खालसा एड प्रोजेक्ट के एशिया के डायरेक्टर, अमनप्रीत सिंह ने The Tribune से बात करते हुए कहा, 

भीड़ में किसानों को सही तरह का मटैरियल मिलने में दिक्कत हो रही थी, इस समस्या का समाधान करने के लिए किसान मॉल की स्थापना की गई है. पहले जो रिलीफ़ मटैरियल आये थे वो सही साइज़ के नहीं थे. इसके अलावा कई किसानों को आगे आकर भीड़ में ज़रूरत का सामान लेना उनकी शान के ख़िलाफ़ लग रहा था. बूढ़े और ख़ासकर बूढ़ी महिलाओं को सामान लेने में दिक्कत हो रही थी. 

                    - अमनप्रीत सिंह

Source: The Tribune

बरनाला के 70 वर्षीय किसान, अजमेर सिंह ने बताया कि वो कई दिनों से कंबल लेने की कोशिश कर रहे थे लेकिन उन्हें नहीं मिला. मॉल के आईडिया का उन्होंने समर्थन किया.