खरगोन गर्मियों के दिनों में मध्यप्रदेश का सबसे गर्म शहर होता है, लेकिन पिछले शुक्रवार को वो दुनिया का सबसे गर्म शहर था. शुक्रवार के दिन वहां का अधिकतम तापमान 46.6 डिग्री दर्ज किया गया था.

El Dorado नाम की मौसम वेबसाइट ने खरगोन का तापमान 46.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया था, जो कि विश्व में सबसे अधिक था. आपको बता दें कि विदर्भ का पूरा इलाका गर्मी से तप रहा है.

शुक्रवार की शाम के 7:30 बजे, विश्व के 15 गर्म शहरों में से 6 शहर विदर्भ के इलाके से थे. अकोला दुनिया की दूसरी सबस गर्म जगह थी. वहां का तापमान 46.6 डिग्री सेल्सियस था. मध्यप्रदेश का खंडवा 45.1 डिग्री सेल्सियस के साथ दसवें और होशंगाबाद 44.7 डिग्री सेल्सियस के साथ 13 वें स्थान पर था.

खरगोन में अप्रेल महीने से तापमान 45 के पार है. गर्मी की वजह से उठे आंधी-तूफ़ान ने इस इलाके में दो जानें भी ले ली हैं. मध्यप्रदेश की राजधानी, भोपाल भी लगातार चार दिनों तक 42 डिग्री से ज़्यादा गर्म थी.

IMD ने साल 2018 को 1901 के बाद का सबसे गर्म साल घोषित किया था. हालांकि इस साल शुरुआत में ही गर्मी के सारे रिकॉर्ड टूट रहे हैं.

मौसम वैज्ञानिकों ने आशंका जताई है कि मध्य भारत के सभी शहर इस गर्मी में अपने सामान्य तापमान से 0.5 डिग्री सेल्सियस ज़्यादा गर्म रहेंगे.

अगले पांच दिनों के लिए कई जिलों में गर्म हवा के थपेड़ों को लेकर चेतावनी जारी कर दी गई है. विदर्भ, अकोला, अम्रावती, चंद्रपुर, नागपुर, यवतमाल, वरधा के इलाकों में इस बीच तापमान 45 से 47 डिग्री के बीच रहने वाला है.

अगले पांच दिनों के लिए कई जिलों में गर्म हवा के थपेड़ों को लेकर चेतावनी जारी कर दी गई है. विदर्भ, अकोला, अम्रावती, चंद्रपुर, नागपुर, यवतमाल, वरधा के इलाकों में इस बीच तापमान 45 से 47 डिग्री के बीच रहने वाला है.