फरवरी 2020 में उत्तर-पूर्वी दिल्ली हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जेएनयू के पूर्व छात्र उमर खालिद को गिरफ़्तार कर लिया.

इसके बाद से ही उमर खालिद के समर्थन में कई लोग आगे आए. इन्हीं में कॉमेडियन कुनाल कामरा भी हैं. कामरा ने ट्विटर पर पहले दिल्ली पुलिस की चुटकी ली और उसके बाद खालिद और अपनी दोस्ती पर एक पोस्ट शेयर किया.

'मैं उमर को 3 साल से ज़्यादा समय से जानता हूं. इस दौरान उस पर जानलेवा हमला हुआ, जान से मारने की कई धमकियां मिलीं, जबकि उसकी कभी कोई राजनैतिक मंशा नहीं रही. उसने बाहर के कई यूनिवर्सिटीज़ के स्कॉलरशिप ऑफ़र ठुकराए और जेएनयू से Tribal Studies में Phd करने का निर्णय लिया. मैंने उससे विदेश में टिचिंग जॉब लेने को कहा था, जिस पर उसने कहा,


'अगर मैं अपने लिए भाग जाऊं तो ये उन लोगों के साथ धोखा होगा जिन्होंने मुझ पर विश्वास दिखाया, मेरा कुसूर क्या है? अगर मैं भाग जाता हूं तो मुझे ऐसे उन अपराधियों के साथ कंपेयर किया जाएगा जो देश छोड़कर भाग गए.' आख़िरी बार जब हमारी बात हुई थी तब उसने बताया था कि उमर से क़रीबी लोगों को दिल्ली पुलिस उमर के ख़िलाफ़ गवाही देने पर मजबूर कर रही है. उसने हंसते हुए कहा कि हर रात जब मैं सोने जाता हूं तो यही सोचता हूं कि ये घर पर आख़िरी रात है. मुझे लगता है जन्म के साथ ही उसकी पहचान तय हो गई थी. उसे अभी के हालातों से समझौता करना पड़ा. आज से पहले मैंने कभी इतनी मजबूरी इतना ग़ुस्सा महसूस नहीं किया. दूसरी तरफ़ मेरा दिमाग़ ये सोच रहा है कि उसने ज़रूर कुछ ग़लत किया होगा और उसे यूएपीए के तहत जेल होनी ही चाहिए'

'मैं यही कहना चाहता हूं कि राजनीति उमर जैसे लोगों के लिए नहीं है. अगर मैं अपनी भावनाएं छिपाऊं या ये कहूं कि आज हमें मज़बूत रहना है और झुकना नहीं है, तो ये झूठ होगा. आज मैं थक चुका हूं, टूट चुका हूं. मुबारक हो आप फिर जीत गए. मीलों तक कोई रौशनी नहीं है. मैंने अपने इंटरनेट करियर की शुरुआत उस रौशनी से भी आगे जाने के लिए की थी लेकिन बीते 5 साल में मैं डिप्रेशन के आगे के अंधेरों में जा चुका हूं. मैंने अपनी ज़िन्दगी में इतना अकेला या मजबूर महसूस नहीं किया. मैं उमर पर होने वाले टॉर्चर के बारे में सोच भी नहीं सकता हूं, एक नास्तिक जो मुस्लिम परिवार में पैदा होने की क़ीमत चुका रहा है. सबसे मज़ेदार बात ये है कि मैंने भले उम्मीद छोड़ दी हो उमर ने नहीं छोड़ी होगी. उसकी सकारात्मक सोच हम सबको चौंका देती है. उमर इस वतन में मोहब्बत और रौशनी लेकर आया, आज हम हार गए हैं- पर हम उसके बारे में बात करते रहेंगे. मैं इस आदमी पर लगाए जा रहे एक भी झूठ पर यक़ीन नहीं करता.'

इस ट्वीट पर 15 हज़ार से ज़्यादा लाइक्स आ चुके हैं.


ट्विटर की मिली-जुली प्रतिक्रिया रही-