मध्य प्रदेश के इंदौर में एक मजदूर की बेटी भारती खांडेकर को 10वीं कक्षा में 68% नंबर से पास होने पर इंदौर नगर निगम ने भारती की हौसला-अफ़ज़ाई के लिए एक फ्लैट गिफ्ट किया गया. साथ ही प्रशासन ने भारती की आगे की शिक्षा मुफ़्त करने का भी फैसला लिया.

Source: Twitter/ANI

भारती इस बात के लिए अपने माता-पिता को ज़िम्मेदार बताती हैं, वो कहती हैं. "मैं अपने माता-पिता को मुझे प्रोत्साहित करने के लिए धन्यवाद देती हूं. हमारे पास रहने के लिए घर नहीं था, जिसकी वज़ह से हम फुटपाथ पर रह रहे थे."

साथ ही भारती ने प्रशासन को घर देने के लिए और आगे की पढाई फ़्री करने के लिए शुक्रिया अदा किया और अपने सपनों के बारे में बताया. वो कहती हैं, "मैं IAS अफ़सर बनना चाहती हूं. मुझे घर गिफ़्ट करने और आगे की पढ़ाई मुफ्त करने के लिए मैं प्रशासन को धन्यवाद देना चाहती हूं."

Source: Twitter/ANI

भारती जैसे होनहार स्टूडेंट्स का इस तरह से हौसला बढ़ाने क़ाबिले तारीफ़ है और साथ ही इसकी बहुत ज़रुरत है ताकि संसाधनों की कमी के चलते टैलेंट कहीं गुम ना हो जाए.