दिवाली के मौक़े पर कोलकाता के बाज़ार चीन से आई आर्टिफ़िशियल लाइट्स(लड़ी) से भरे रहते हैं. लेकिन शहर के पास स्थित एक गांव के मिट्टी के दिये इन लाइट्स को कड़ी टक्कर देते हैं. ये गांव कोलकाता से 24 किलोमीटर दूर बारासात शहर में है. हर साल इस गांव से आए मिट्टी के दीयों और मूर्तियों की भारी डिमांड रहती है.

lamp village Kolkata
Source: indianexpress

इस गांव का नाम चलतबेरिया है. यहां पिछले 200 सालों से हिंदु-मुस्लिम मिलकर पूजा के लिए दिये बनाते आ रहे हैं. गांव के अधिकतर लोग मिट्टी के बर्तन बनाने का ही काम करते हैं. यहां पूरा साल मिट्टी के बर्तन बनाने अलावा कोई काम नहीं होता. 

lamp village Kolkata
Source: indianexpress

लॉकडाउन में भी यहां का काम कभी बंद नहीं हुआ. लोगों ने अपने घर में रहकर दुर्गा-पूजा, दिवाली जैसे त्यौहारों के लिए घर में दिये-मूर्ती आदि बनाई थी. 

lamp village Kolkata
Source: indianexpress

इन दोनों चीज़ों के अलावा यहां सुंदर-सुंदर गमले, पूजा के लिए मिट्टी से बनी थाली, फूलदान आदि भी बनाए जाते हैं.

lamp village Kolkata
Source: indianexpress

लॉकडाउन से पहले गांव की युवा पीढ़ी मिट्टी के बर्तन बनाने में बहुत कम दिलचस्पी लेती थी. लेकिन जब उनका काम बंद हो गया था तो वो भी इसे करने लग गए.

lamp village Kolkata
Source: indianexpress

हालांकि, इस गांव का नाम फ़ेमस नहीं है, लेकिन यहां के दिये-मूर्तियां दिल्ली, मुंबई, पटना, हैदराबाद, गुजरात, असम में भेजे जाते हैं. 

lamp village Kolkata
Source: indianexpress

यहां के कुम्हारों के मुताबिक, लॉकडाउन में शुरुआती दो सप्ताह उन्हें कुछ परेशानियां उठानी पड़ी थीं. जैसे माल का ट्रांसपोर्ट न हो पाना और मिट्टी के दाम बढ़ना. लेकिन अब सब ठीक है. 

lamp village Kolkata
Source: indianexpress

इनका कहना है कि दिवाली पर लोग मिट्टी के दिये जलाकर पूजा करना पसंद करते हैं. इसलिए इनकी मांग अधिक है.

lamp village Kolkata
Source: indianexpress

हालांकि, उन्हें चीन से आए दीयों से प्रतिस्पर्धा जारी रखने के लिए इसके दाम कुछ कम करने पड़े हैं. लेकिन फिर भी इनकी अच्छी कमाई हो जाती है. गांव वालों का कहना है कि वो ये काम कर बहुत ख़ुश हैं.

lamp village Kolkata
Source: indianexpress