'किसान आंदोलन' से जुड़े एक ट्वीट को लेकर फ़जीहत झेलने के बाद अब कंगना रनौत की एक और मुसीबत बढ़ गई है.  

दरअसल, कंगना ने हाल ही में कृषि कानूनों के ख़िलाफ़ 'किसान आंदोलन' को लेकर एक ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने एक आंदोलकारी बुज़ुर्ग महिला को शाहीनबाग वाली 'दादी' बिलकिस बानो बताया था. पंजाब के एक वक़ील ने कंगना को लीगल नोटिस जारी कर ट्वीट के लिए माफ़ी की मांग की है.

बता दें कि कंगना रनौत ने जिस बुज़ुर्ग महिला की तस्वीर शेयर कर उन्हें शाहीन बाग़ वाली 'दादी' बताया था वो पंजाब की रहने वालीं महिंद्र कौर हैं. तस्वीर फेक पाए जाने पर कंगना ने अपने इस ट्वीट को डिलीट कर दिया.

Source: google

कंगना ने जो बोला उस पर लानत है 

80 वर्षीय महिंद्र कौर का कहना है कि वो खेती का काम करती है. कंगना को क्या पता खेती क्या होती है. कंगना कमली (पागल) है. उसने जो भी बोला है उस पर लानत है. कंगना को क्या पता कि खेती क्या होती है और किसान की कमाई क्या होती है. खेती से पैसा कमाना बहुत कठिन है. धूप और छांव सह कर हाथों की मेहनत से कमाई के साथ पैसा बनता है. कंगना जो मेरे उपर तोहमत लगा रही है वो ग़लत है. 

Source: ndtv

कंगना ने किया था ये ट्वीट 

कंगना ने लिखा था, मोदी जी कितना समझाएंगे, कितनी बार समझाएंगे? शाहीन बाग में खून की नदियां बहाने वाले भी ख़ूब समझते थे की उनकी नागरिकता कोई नहीं छीन रहा, लेकिन फिर भी उन्होंने दंगे किए देश में आतंक फैलाया और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पे खूब पुरस्कार भी जीते, इस देश को ज़रूरत है धर्म और नैतिक मूल्यों की.

कंगना ने एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा था, 'हाहाहा...ये वही दादी हैं, जिन्हें टाइम मैगज़ीन में भारत के सबसे पावरफुल लोगों में शामिल किया था. ये तो 100 रुपये में अवेलेबल हैं. पाकिस्तान के पत्रकारों ने इंटरनेशनल पीआर को भारत के लिए शर्मनाक तरीके से हायर कर लिया है. हमें अपने ऐसे लोग चाहिए जो हमारे लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आवाज उठा सके.

कंगना के इस ट्वीट को लेकर लोग पिछले कई दिनों से उनसे खासा नाराज़ नजर आ रहे हैं. इसे लेकर पंजाबी सिंगर दिलजीत दोसांझ, जस्सी और हिमांशी खुराना ने कंगना को ख़ूब खरी खोटी सुनाई है.