बिहार में आंधी तूफ़ान और बारिश के दौरान बिजली गिरने (वज्रपात) से अब तक 92 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि यूपी में भी अब तक 24 लोग वज्रपात से गंवा जान चुके हैं. बिहार में अब वज्रपात से मरने वालों की संख्या, कोरोना से मरने वालों की संख्या से कहीं अधिक हो गयी है.

बता दें कि गुरुवार से लेकर आज अभी तक बिहार के 23 ज़िलों में 92 से अधिक लोग वज्रपात के शिकार हो चुके हैं. अकेले गोपालगंज में 13 लोगों की मौत हुई है. इस दौरान बुरी तरह से कई लोग झुलस भी गए हैं, जिनका फ़िलहाल अस्पतालों इलाज चल रहा है. वहीं कई लोगों की स्थिति गंभीर बनी हुई है.

Source: millenniumpost

बंगाल की खाड़ी में उठे चक्रवात के कारण बिहार में एक बार फिर मानसून सक्रिय हो गया है. इस बीच मौसम विभाग ने अगले 72 घंटे के लिए भारी बारिश का हाई अलर्ट जारी किया है. इस दौरान खासकर उत्तरी बिहार के अधिकांश ज़िलों में भारी बारिश की संभावना है.

Source: britannica

बिहार की राजधानी पटना, मधेपुरा, पश्चिम चंपारण, कटिहार, अररिया, शिवहर, शेखपुरा, गया, सिवान, समस्तीपुर, भागलपुर, नवादा, लखीसराय, हाजीपुर, बेगूसराय में कल से ही कहीं मूसलाधार बारिश, तो रूक-रूककर बारिश हो रही है. मौसम विभाग ने राज्य के 18 ज़िलों को ख़ास तौर पर एहतियात बरतने की सलाह दी है.

Source: orissapost

यूपी में भी 24 की मौत-

लखनऊ में मौसम विभाग के अधिकारियों से मिली जानकारी के मुताबिक़, उत्तर प्रदेश में गुरुवार को बिजली गिरने से कम से कम 24 लोगों की मौत हो गई जबकि 12 घायल हो गए हैं. इससे पहले बुधवार को बिजली गिरने से 3 लोग की मौत हो गई थी.

Source: republicworld

पीएम मोदी ने व्यक्त की संवेदना- 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बिहार और यूपी में बरपे इस आसमानी कहर में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के प्रति शोक संवेदना व्यक्त की है और इसके साथ ही उन्होंने राज्य सरकारों से राहत कार्य तत्पतरता से करने की बात कही है. 

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस हादसे में मारे गए लोगों को लेकर भी गहरा दुख जताया है. राज्य सरकार की तरफ़ से मृतकों के परिवार को 4-4 लाख रुपये का मुआवज़ा देने का ऐलान किया गया है.