गुरुवार को मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कॉमेडियन मुनव्वर फ़ारूक़ी की बेल अपील ख़ारिज कर दी. The Indian Express की रिपोर्ट के अनुसार, फ़ारूक़ी और इंदौर निवासी नलिन यादव को 1 जनवरी को गिरफ़्तार किया गया था.  

फ़ारूक़ी पर अपने शो में हिन्दू देवी-देवताओं का अपमान करने के आरोप हैं.  

Source: Live Law

कोर्ट की इंदौर पीठ ने कहा कि अभी तक जमा किए गए सुबूतों से ये साबित होता है कि फ़ारूक़ी ने भारत के नागरिकों की धार्मिक भावनाएं आहत की है. पीठ ने ये भी कहा कि फ़ारूक़ी ने सोशल मीडिया पर हिन्दू देवी-देवता, भगवान राम, देवी सीता पर घटिया जोक्स बनाए. इसके ख़िलाफ़ बीते 18 महीनों से सोशल मीडिया पर विरोध हो रहा था.  

Source: Free Press Journal

जस्टिस रोहित आर्या ने फ़ारूक़ी से इस तरह के सवाल किए-

'किसी की धार्मिक भावनाओं का अनुचित लाभ कैसे उठा सकते हो?'
'ये किस तरह की मानसिकता है?'
'बिज़नेस के लिए ऐसा कैसे कर सकते हो?'

फ़ारूक़ी के वक़ील विवेक तनखा और अंशुमान श्रीवास्तव ने कहा कि कॉमेडियन ने इवेंट में एक शब्द नहीं कहा जिसके लिए उसे सज़ा मिल रही है. जस्टिस रोहित आर्या का मत था कि 'ऐसे लोगों को नहीं छोड़ना चाहिए.' 

Source: The Indian Express

फ़ारूक़ी के वक़ील विवेक तनखा और अंशुमान श्रीवास्तव ने कहा कि कॉमेडियन ने इवेंट में एक शब्द नहीं कहा जिसके लिए उसे सज़ा मिल रही है. जस्टिस रोहित आर्या का मत था कि 'ऐसे लोगों को नहीं छोड़ना चाहिए.'