कोलकाता के एक जादूगर का लोगों को एंटरटेन करना उसकी ज़िंदगी पर भारी पड़ गया. घटना बीते रविवार हावड़ा पुल की है, जहां जादूगर चंचल लाहिरी जादू दिखाने गंगा नदी में तो गये पर वापस नहीं आ पाये. रिपोर्ट्स के मुताबिक, चंचल हाथ और पैर में ज़ंजीर बांधकर क्रेन की मदद से नदी में जाकर वापस आने का दावा कर रहे थे. अपने जादू के ज़रिये जादूगर जनता को ये दिखाना चाहते थे कि वो किसी की मदद के बिना बाहर आ सकते हैं. 

वहीं पब्लिक भी चंचल के इस कारनामे को देखने के लिये बेताब थी. इस तस्वीर में आप चंचल को ज़ंजीरों में बंधा हुआ देख सकते हैं. ख़ुद को ज़ंजीरों में बांध कर वो नदी में डूबते हुए दिखाई दे रहे हैं.  

चंचल ने नदी में डूबकी लगाने से पहले लोगों से कहा कि कुछ ही देर में वो ज़ंजीर खोलकर नदी से बाहर आ जाएंगे. इसके बाद हर कोई उनके बाहर आने का इंतज़ार करने लगा पर ऐसा नहीं हुआ और जादूगर पानी के अंदर ही कहीं लापता हो गया. 

कुछ समय तक इंतज़ार करने के बाद जब चंचल वापस नहीं आये, तो लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी. इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने जादूगर को तलाश में जुट गई. बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, चंचल लाहिरी की लाश बरामद कर ली गई. यानि जिसका सबको डर था वही हुआ. चंचल लाहिरी अब इस दुनिया में नहीं रहे. 

Source: BBCnewsHindi

कहा जा रहा है कि स्टंट से पहले जादूगर ने आधिकारिक तौर पर इसकी अनुमति ली थी पर वहां सुरक्षा के पुख़्ता इंतज़ाम नहीं थे. इसके साथ ही चंचल ने स्टंट करने से पहले सबको ये भरोसा दिलाया था कि 21 साल पहले उसने सफ़लता पूर्वक यही स्टंट किया था. 40 वर्षीय चंचल अपने Stage Name 'जादूगर मंद्रक' के नाम से फ़ेमस थे.