कोरोना महामारी के चलते पूरे देश में 21 दिनों का लॉकाउन है. इस दौरान सरकार ने पूरे देश में लोगों के कहीं भी आने-जाने पर रोक लगा दी है. मगर गांव से शहरों में काम की तलाश में पहुंचे मज़दूरों को इससे बहुत परेशानी हो रही है. संकट की इस घड़ी में न तो उनके पास कमाने का ज़रिया है और न ही घर जाने का साधन.

इसलिए इनमें से कुछ लोग पैदल तो कुछ इमरजेंसी वाहनों में छुप-छिपा कर अपने घर लौटने की कोशिश कर रहे हैं. महाराष्ट्र पुलिस ने ऐसे ही मज़दूरों को ले जा रहे दो ट्रकों को पकड़ा है. इनमें खाद्य सामग्री की जगह 300 मज़दूर भरे थे.

covid-19
Source: weather

ये ट्रक तेलंगाना से आ रहा था. इसे महाराष्ट्र के यवतमाल ज़िले के टोल बूथ पर पुलिस ने पकड़ा है. पकड़े गए दोनों कंटेनर्स को देख कर ऐसा लग रहा था कि उनमें दैनिक ज़रूरतों का सामान लदा है. मगर जब टोल कर्मचारियों ने ट्रक ड्राइवर से पूछा कि वो कहां जा रहा है, तो वो संतोषजनक उत्तर नहीं दे पाया. शक़ होने पर वहां मौजूद पुलिस की टीम ने उसकी जांच की.

जब उन्होंने ट्रकों को खोला तो उन्हें इनमें 300 मज़दूर ठूंस-ठूंस कर भरे मिले. उन्हें भेड़-बकरियों की तरह ट्रक में लादा गया था. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि ये सभी मज़दूर राजस्थान(घर) जाना चाहते थे. लेकिन उन्हें कोई साधन नहीं मिला तो वो इस तरह जान जोखिम में डाल यात्रा करने को मजबूर हो गए.

police
Source: news18

पुलिस ने फ़िलहाल ट्रक ड्राइवर के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कर क़ानूनी कर्रवाई शुरू कर दी है. वहीं मज़दूरों को लेकर क्या करना है, इस पर अभी विचार-विर्मश किया जा रहा है. क्योंकि ये सभी लोग अपने घर जाना चाहते हैं.


News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.