बीते शुक्रवार सूरत के तक्षशिला कॉम्प्लेक्स में आग लगने से 21 छात्रों की मौत हो गई. इस ख़बर ने पीड़ितों के घरवालों सहित देश के तमाम लोगों की आंखें नम कर दीं. सूरत अग्निकांड में कुछ छात्रों की मौत दम घुटने से हुई, तो कुछ ख़ुद को बचाने की कोशिश में बिल्डिंग से कूद गये. हांलाकि, इस बुरी ख़बर के बीच एक साहसिक पहल भी सामने आयी है.

रिपोर्ट के अनुसार, कोचिंग क्लास में लगी इस आग में मरने वालों की संख्या और बढ़ सकती थी. मगर एक दिलेर और हिम्मती शख़्स की वजह से 2 लड़कियों की जान बच गई.

नाम है केतन जोरवाडिया!

केतन जोरवडिया वही शख़्स हैं जिन्होंने चौथी और तीसरी मंज़िल के बीच लटकी हुई दो लड़कियों की ज़िंदगी बचा ली. दरअसल, बिल्डिंग पर लटकी दोनों लड़कियां छलांग मारने से डर रही थीं, जिसे देख केतन जोरवडिया उनकी मदद के लिये पहुंचे और दोनों को पकड़ कर दमकलकर्मियों तक पहुंचाया. केतन ने इस बारे में मीडिया से बात करते हुए बताया, 'वहां पर धुंआ था और मुझे नहीं पता था कि क्या करना है. मैंने एक सीढ़ी की मदद से बच्चों को आग से निकालने की कोशिश करी और सफ़ल रहा'.

अपनी जान पर खेल कर मासूमों की जान बचाने वाला ये शख़्स ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा है. सोशल मीडिया पर केतन की बहादुरी की चर्चा हो रही है.

इस हीरो ने दो मासूमों की जान तो बचा ली, पर अगर दमकल गाड़ियां समय पर पहुंच जाती, तो कई और मासूम ज़िंदगियां बच जाती.