दुनियाभर में अब तक कोरोना वायरस के 5,004,136 मामले सामने आ चुके हैं. जबकि 325,239 लोगों की मौत हो गई है. वहीं 1,972,167 लोग इस वायरस को मात दे चुके हैं. 

लॉकडाउन के बीच सिंगापुर में एक शख्स को Zoom वीडियो-कॉल के ज़रिए से मौत की सज़ा सुनाई गई है. सिंगापुर में ये पहला ऐसा मामला है जब वीडियो कॉलिंग के ज़रिए किसी शख़्स को मौत की सज़ा दी गई हो. बताया जा रहा है कि ये शख़्स ड्रग डीलर था. 

Source: ndtv

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, मलेशिया के 37 वर्षीय पुनीथन गेनसन को साल 2011 में हेरोइन की लेन-देन में हाथ होने के लिए सजा मिली थी. बाद में छानीबीन हुई तो पता चला कि नशे के कारोबार में उसकी मुख्‍य भूमिका है. इसके बाद शुक्रवार को कोर्ट ने Zoom वीडियो-कॉल के ज़रिए फैसला सुनाते हुए आरोपी को मौत की सज़ा सुनाई. 

Source: barandbench

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक़, सिंगापुर के सुप्रीम कोर्ट के प्रवक्ता ने कोरोना वायरस को कम करने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों का हवाला देते हुए कहा, 'कार्यवाही में शामिल सभी की सुरक्षा के लिए सरकारी वकील बनाम पुनीथन ए/एल गेनसन की सुनवाई वीडियो-कॉन्फ़्रेंसिंग द्वारा की गई थी. ये सिंगापुर में इस तरह का पहला मामला है जब किसी अपराधी को मौत की सज़ा दी गई है. 

गेनसन के वकील पीटर फ़र्नांडो ने कहा कि मेरे मुवक्किल को ज़ूम कॉल के जरिए जज ने सजा सुनाई और वो आगे इस मामले में अपील दाखिल कर सकते हैं. उन्होंने वीडियो-कॉन्फ़्रेंसिंग के इस्तेमाल पर कोई आपत्ति नहीं जताई क्योंकि ये केवल न्यायाधीश के फैसले को सुनने के लिए थी. इसे स्पष्ट रूप से सुना जा सकता है और इस दौरान कोई कानूनी तर्क नहीं दिया गया. 

Source: forbes

कोरोना वायरस के बढ़ते ख़तरे को देखते हुए सिंगापुर में भी लॉकडाउन जारी है. इसके चलते वहां की कई अदालतों की सुनवाई स्थगित कर दी गई है. इसलिए ज़रूरी मामलों में सोशल डिस्टेंसिंग को फ़ॉलो कर सुनवाई हो रही है. कुछ मामलों में वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यग से भी सुनवाई हो रही है. 

बता दें कि सिंगापुर में अवैध ड्रग्स के लिए जीरो-टॉलरेंस की नीति है. अब तक सैकड़ों लोगों को फांसी दी जा चुकी है, जिसमें दर्जनों विदेशी भी शामिल हैं