शाहरुख़ ख़ान की फ़िल्म 'रईस' का वो डायलॉग तो याद होगा कि 'कोई धंधा छोटा नहीं होता और धंधे से बड़ा धर्म कोई नहीं होता'. आपको विश्व भर में ऐसे व्यक्ति मिल जाएंगे जिन्होंने उच्च ओहदे वाली प्रोफ़ेशनल जॉब को छोड़ सामान्य काम करना शुरू कर दिया, जैसे किसानी या फिर चाय बेचना. 

भारत में भी आपको कई ऐसे व्यक्ति मिल जाएंगे. इनमें से एक बारे में हम आपको इस ख़ास लेख में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने अपनी आईटी की नौकरी छोड़ गधी का दूध (Donkey Milk) बेचना शुरू कर दिया. आप भी सोच रहे होंगे कि ये कैसा व्यक्ति है, पर इनका विज़न जान आप भी चौक जाएंगे. तो आइये, बढ़ते हैं लेख में जानते हैं इस शख़्स की पूरी कहानी.

खोला गधों के लिए फ़ार्म

Srinivas Gowda
Source: twitter

हम जिस शख़्स की बात कर रहे हैं वो दक्षिण भारत के मंगलोर शहर में रहते हैं. इनका नाम है श्रीनिवास गौड़ा (Srinivas Gowda). श्रीनिवास ने इसी महीने यानी जून की 8 तारीख़ को गधे का फ़ार्म चालू किया है ताकि वो गधी का दूध बेच बढ़िया पैसा कमा सकें. लेकिन, चौकाने वाली ये है कि उन्होंने इस काम के लिए अपनी आईटी की जॉब छोड़ दी, यानी एक प्रोफ़ेशनल ज़िंदगी से एक सामान्य-सी ज़िंदगी में प्रवेश कर लिया.


जानकारी के अनुसार, उन्होंने 2020 तक एक सॉफ़्टवेयर कंपनी में काम किया था. बहुतों को इनका ये फैसला अजीब लग सकता है, लेकिन इनका विज़न जान आपके भी होश उड़ जाएंगे.  

राज्य का पहला Donkey Farm  

Srinivas Gowda
Source: twitter

42 साल के श्रीनिवास ने दक्षिण कन्नड ज़िले के गांव में राज्य का पहला (First Donkey Farm in Karnataka) ऐसा फ़ार्म और ट्रेनिंग सेंटर है. श्रीनिवास ने क़रीब 42 लाख रुपए का निवेश कर 2.3 एकड़ में First Donkey Farm in Karnataka को शुरू किया है.


फ़िलहाल इनके पास अभी 20 गधे हैं और आने वाले समय में इनकी संख्या और बढ़ेगी. श्रीनिवास कहते हैं कि गधों को ढूढने में दिक्कत का सामना करना पड़ा, क्योंकि उनका ज़्यादा इस्तेमाल नहीं होता. वहीं, लोगों ने मज़ाक भी उड़ाया, क्योंकि उन्हें पता नहीं था कि गधी का दूध कितने में बिकता है. 

17 लाख का मिल चुका है ऑर्डर  

Srinivas Gowda
Source: twitter

श्रीनिवास गौड़ा को गधों का फ़ार्म शुरू करते ही 17 लाख का ऑर्डर भी मिल चुका है. श्रीनिवास कहते हैं कि गधी का दूध स्वादिष्ट होने के साथ-साथ औषधीय गुणों से भरपूर भी होता है. गधी का दूध पैकेट में मिलेगा और 30ml दूध की क़ीमत 150 रुपये होगी.


वहीं, ये दूध दुकानों के साथ-साथ सुपरमार्केट और मॉल्स में सप्लाई किया जाएगा. श्रीनिवास कहते हैं कि, “मेरा सपना है कि सभी के लिए गधी का दूध उपलब्ध हो.” श्रीनिवास के फ़ार्म में खरगोश, कड़कनाथ मुर्गे-मुर्गियां और बकरियां भी हैं.   

गधी के दूध में मौजूद पोषक तत्व - Donkey milk nutrition in Hindi  

गधी का दूध कई ज़रूरी पोषक तत्वों से भरा रहता है. इसमें ज़रूरी विटामिन्स के साथ मिनरल्स और प्रोटीन की मात्रा पाई जाती है. वहीं, गाय के दूध की तुलना में इसमें फ़ैट कम होता है और कैलोरी कम पाई जाती है. नीचे दिए गए चार्ट की मदद से आप जान जाएंगे कि 100ml गधी के दूध में कौन-कौन से पोषक तत्व कितनी मात्रा में पाए जाते हैं.    

Donkey Milk Nutrition chart
Source: healthline

गधी के दूध के फायदे - Benefits of Donkey Milk Hindi  

Donkey Milk
Source: medicalnewstoday

गधी का दूध स्वास्थ्य के लिए कितना फ़ायदेमंद होता है, वो हम आपको नीचे बताने जा रहे हैं.   

1. इन्यूमन को कर सकता है बूस्ट  

Immune System
Source: nytimes

शरीर को रोग मुक्त और स्वस्थ रहने के लिए शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता का मज़बूत रहना ज़रूरी है, क्योंकि जिनका इम्यून सिस्टम कमज़ोर होता है, वो जल्द बीमारी और संक्रमण की चपेट में आ जाते हैं. ऐसे में गधी का दूध फ़ायदेमंद साबित हो सकता है, क्योंकि इसकी गिनती इम्यून बूस्टिंग फूड में होती है.  

2. Casein प्रोटिन की नियंत्रित मात्रा 

milk
Source: amcoproteins

प्रोटीन की बात करें, तो गाय के दूध में Whey (दूध से दही जमाने और छानने के बाद बचा हुआ तरल) से क़रीब पांच गुना अधिक कैसिइन होता है. Casein एक प्रकार का प्रोटिन है. गधी के दूध में मौजूद प्रोटीन में Casein और Whey की लगभग बराबर मात्रा पाई जाती है. वहीं, Casein की अधिक मात्रा एलर्जी का कारण बनने के साथ-साथ कई अन्य समस्याओं का कारण बन सकती है.  

3. गाय के दूध का विकल्प  

milk
Source: rothesadairy

अगर किसी को गाय के दूध से एलर्जी की समस्या है, तो गधी का दूध गाय के दूध का एक विकल्प बन सकता है.  

4. Lactose की मात्रा  

milk
Source: verywellhealth

गधी के दूध में मौजूद Lactose कैल्शियम को अवशोषित (Absorb) करने और हड्डियों को मज़बूत बनाने में मदद कर सकता है.   

5. रक्तचाप को नियंत्रित कर सकता है 

Blood Pressure
Source: healthline

गधी के दूध का एक अन्य फ़ायदा ये है कि ये रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है. दरअसल, एक अध्ययन से पता चलता है कि ये कोशिकाओं द्वारा Nitric Oxide के निर्माण में मदद कर सकता है. वहीं, Nitric Oxide शरीर में रक़्त के बहाव में सुधार करने का काम कर सकता है, जिससे बल्ड प्रेशर को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है.  

नोट: स्वास्थ्य के लिए गधी का दूध पीने से पहले एक बार अपने डॉक्टर से बात ज़रूर कर लें.