कोरोना वायरस के चलते मार्च 2020 में देशभर में लॉकडाउन लग गया. सरकार के अचानक लिए गए इस फ़ैसले ने लाखों लोगों को मुश्किल में डाल दिया. उनके पास न रोज़गार रहा और न ही दो वक़्त का खाना. ऐसे में इन बेसहारा लोगों की मदद के लिए कई लोग सामने आए. उनमें से एक नाम मणिपुर के 24 वर्षीय साइकिलिस्ट फ़िलेम रोहन सिंह का भी है.  

Source: indiatimes

रोहन अपने दोस्तों के साथ मिलकर पिछले एक साल से ज़रूरतमंदों को खाना और ज़रूरी सामान बांटने का काम कर रहे हैं. वो अपने राज्य की राजधानी इम्फ़ाल के Ima Market में रोज़ाना 40 से 50 लोगों को खाना खिला रहे हैं. इस काम के लिए उनका ग्रुप अपनी जेब से 4,000 रुपये तक ख़र्चा करता है. रोहन बताते हैं कि कभी 10-15 लोग होते हैं तो कभी 100 से भी ज़्यादा लोग हो जाते हैं. एक व्यक्ति को खाना खिलाने की लागत 100 रुपये आती है.   

Source: indiatimes

हालांकि, अब उन्हें इस काम को जारी रखने के लिए ज़्यादा पैसों की ज़रूरत है. ऐसे में वो साइकिल से पूरे देश की यात्रा पर निकले हैं, ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगों की मदद के लिए फ़ंड जुटा सकें.  

Source: indiatimes

रोहन ने बताया, ‘हम लॉकडाउन की शुरुआत से ही बेसहारा और बेघर लोगों की मदद कर रहे थे. हमें सरकारी मदद भी नहीं मिली. उस वक़्त नहीं पता था कि ये काम इतना लंबा चलेगा. लेकिन अब हमें इस काम के लिए फ़ंड की ज़रूरत है, इसलिए मैं साइकिल यात्रा पर निकला हूं.’  

रिपोर्ट के मुताबिक, इस वक़्त रोहन ओडिशा पहुंचे हैं. वो अपनी इस यात्रा में ज़्यादा से ज़्यादा लोगों, नेताओं और ऑर्गनाइज़ेशन्स से मिलने की कोशिश कर रहे हैं ताकि इस आगे काम जारी रखने के लिए फ़ंड जुटा सकें.   

Source: indiatimes

बता दें, रोहन ने Ketto पर ऑनलाइन फ़ंड जुटाने के लिए भी एक कैंपने शुरू किया है. उन्हें उम्मीद है कि इसकी मदद से वो 10 हज़ार रुपये तक जुटा लेंगे. साथ ही, रोहन 'साइकिलिंग फ़ॉर ह्यूमानिटी’ की टीशर्ट बेचकर कर भी पैसा जुटा रहे हैं. उन्हें उम्मीद है कि लोग उनकी इस पहल को समझेंगे.