अरुणाचल प्रदेश के तवांग ज़िले में एक आग दुर्घटना में शहीद होने वाले मेजर प्रसाद महादिक की पत्नी गौरी प्रसाद ने बेहद हिम्मत वाला और सराहनीय कदम उठाया है. दरअसल, अपने शहीद पति को श्रद्धाजंलि देने के लिये गौरी ने भारतीय सेना जॉइन करने का फ़ैसला किया है.

Source: Catchnews

रिपोर्ट के अनुसार, शहीद मेजर की पत्नी ने सर्विस सेलेक्शन बोर्ड (SSB) की परीक्षा में टॉप कर, पहली रैंक पर कब्ज़ा जमाया है. इसके बाद अप्रैल में चेन्नई में गौरी को भारतीय सेना के अधिकारी प्रशिक्षण अकादमी (OTA) की ट्रेनिंग दी जाएगी, जिससे वो अगले साल तक भारतीय सेना में शामिल होने योग्य जाएंगी.

Source: Catchnews
इस मुद्दे पर ANI से बात करते हुए गौरी ने बताया कि 'वो हमेशा चाहते थे कि मैं ख़ुश रहूं और मुस्कुराती रहूं. मेजर साहब की मृत्यु के बाद मैं 10 दिन तक सोचती रही कि अब आगे मुझे क्या करना है. काफ़ी सोचने के बाद मैंने ये फ़ैसला लिया. मैंने तय किया कि मैं फ़ोर्स में शामिल होऊंगी, उनकी वर्दी पहनूंगी और उनके स्टार को पहनूंगी. मैं चेन्नई में OTA में प्रशिक्षण के बाद अगले साल बतौर लेफ़्टिनेंट सेना में काम करूंगी.'

इससे पहले गौरी एक वकील और कंपनी सचिव के रूप में काम करती थी पर 2017 दिसंबर में 31 वर्षीय मेजर प्रसाद महादिक अरुणाचल सीमा के चीन बॉर्डर पर गोला-बारूद के टैंक चेकिंग के दौरान हुए विस्फ़ोट में शहीद हो गये. इसी हादसे के बाद गौरी ने अपनी नौकरी छोड़ सेना में आने का निर्णय लिया.

गौरी के जज़्बे को सलाम!