प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ऐसा टर्म दिया है, जो अगले कई दिनों तक इंटरनेट के मीम का विषय बना रहेगा.

मौक़ा था कार्यक्रम 'परीक्षा पर चर्चा 2.0' का, एक महिला ने प्रधानमंत्री से सवाल पूछा कि उसका बेटा रात-रात भर ऑनलाइन वीडियो गेम खेलता रहता है, वो अपने बेटे की आदत कैसे छुड़वाए? नरेंद्र मोदी ने पलट कर महिला से सवाल पूछा- 'PUBG वाला है क्या?' प्रधानमंत्री के द्वारा PUBG का नाम सुनते ही हॉल हंसी के ठहाके से गूंज उठा.

हालांकि, प्रधानमंत्री ने गंभीरता के साथ बाद में कहा कि बच्चों को तक़नीक से दूर रखना अच्छी बात नहीं है. ऐसे रास्ते ढूंढने होंगे जिससे आप अपने बच्चे को तक़नीक के इस्तेमाल के लिए प्रोत्साहित करें. तक़नीक के माध्यम से बच्चों की समझ विकसित हो, न कि वो तक़नीक में ही डूब जाए, ये बच्चों के लिए हानिकारक होगा.

Source: ANI
'हर चीज़ की तरह ही तक़नीक के भी फ़ायदा और नुकसान हैं. अभिभावक के तौर पर हमें अधिक से अधिक लाभ उठाने के लिए प्रेत्साहित करना चाहिए.'

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

उन्होंने आगे कहा कि अगर अभिभावक मेहनत करें, तो बच्चें 'प्लेस्टेशन से प्लेग्राउंड' ज़रूर पहुंच जाएंगे.

आपको बता दें कि PUBG- Player Unknown's Battlegrounds प्रधानमंत्री के गृह राज्य गुजरात के स्कूलों में बैन कर दिया गया है. ये ऑनलाइन गेम दिसंबर, 2017 में लॉन्च हुआ था और तब से युवाओं के बीच ख़ासा प्रसिद्ध है.

जम्मू और कश्मीर के छात्रों का एक समूह भी परीक्षा के मद्देनज़र इस गेम को बैन करने की मांग कर रहा है.