महाराष्ट्र के नायर अस्पताल में पढ़ने वाली 23 वर्षीय डॉक्टर पायल तड़वी ने अपने तीन सीनियर डॉक्टरों द्वारा लगातार जातिसूचक ताने सुनने की वजह से आत्महत्या कर ली.

Source: NDTV

पायल एक रेसिडेंट डॉक्टर थी और Gynaecology विभाग में थी. 22 मई को वो अपने कमरे में मृत पाई गई.

पायल की मां अबेदा तड़वी ने उसकी तीन सीनियर डॉक्टर्स हेमा अहूजा, भक्ति मेहर और अंकिता खंडेलवाल पर जातिसूचक ताने मारने का आरोप लगाया है, जो आगे चल कर उसकी ख़ुदकुशी का कारण बना. महाराष्ट्र एसोसियेशन ऑफ़ रेसिडेंट डॉक्टर्स ने तीनों आरोपी डॉक्टर्स की सदस्यता रद्द कर दी है.

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी दीपक कंडल ने मीडिया को बताया कि तीनों आरोपियों के ऊपर SCST Act के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है, इस क़ानून के तहत आरोपियों के बेल नहीं मिलती.

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी दीपक कंडल ने मीडिया को बताया कि तीनों आरोपियों के ऊपर SCST Act के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है, इस क़ानून के तहत आरोपियों के बेल नहीं मिलती.

पायल की मां ख़ुद भी केंसर की मरीज़ हैं, उन्होंने मीडिया को बताया कि उन्होंने पहले ही मैनेजमेंट से रैगिंग के बारे में शिकायत की थी और उन्हें इस मामले की जांच करने का आश्वासन दिया गया था, लेकिन ये आदेश लिखित रुप में नहीं दिया गया.

वहीं नायर अस्पताल के डीन Ramesh Bharmal ने आरोपों को नकारते हुए कहा कि डॉ. पायल की मां जिस टॉर्चर के बारे में बात कर रही हैं, वो ग़लत है. हमें उनकी ओर से किसी प्रकार की शिकायत नहीं मिली है.

सोशल मीडिया पर भी ये मामला तूल पकड़ रहा है. #JusticeForDrPayal ट्रेंड हुआ. गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवानी और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार ने भी इस घटना की निंदा करते हुए ट्वीट किया है.