महामारी और देश भर में हुए लॉकडाउन के चलते लाखों लोगों को इस साल अपनी नौकरी से हांथ धोना पड़ा है. ऐसा ही कुछ 22 साल के आदित्य चंदाने के साथ हुआ, जो मुंबई में बिज़नेस एनालिस्ट की नौकरी करते थे.

TOI के अनुसार, किसी भी आम मिडिल क्लास परिवार के तरह ही उनके परिवार में एक 'सुरक्षित नौकरी' को ज़्यादा तरजीह दी जाती थी. आर्थिक रूप से स्वतंत्र होने की इस राह पर चलते हुए आदित्य ने ग्रेजुएशन करते ही मुंबई में बिज़नेस एनालिस्ट की नौकरी कर ली. यहां वो सोमवार से शुक्रवार, 9 से 5 कंप्यूटर के आगे अपना वक़्त गुज़ार रहे थे.  

Source: Storypick

आदित्य डिजिटल मार्केटिंग में हांथ आज़माना चाह ही रहे थे कि अगस्त में उनकी नौकरी चली गयी. उन्हें कई कंपनियों से ऑफ़र भी आए मगर वो आगे ऑफ़िस की चार दीवारी में जीवन बिताने को लेकर चिंतित थे.

इसी सब के बीच वो मुंबई से 40 KM दूर, बदलापुर ड्रोन उड़ाने गए. आदित्य बचपन से ही पायलट बनना चाहते थे और ड्रोन उड़ाना उनकी हॉबी में शामिल था. उन्होंने 3 साल पहले एक ड्रोन ख़रीदा था और लगभग हर वीकेंड ड्रोन उड़ाने बाहर जाते थे.  

Source: geospatialmedia

जल्द ही उन्होंने फ़ैसला किया कि वो इस हॉबी को प्रोफ़ेशन में बदलेंगे. उन्होंने जल्द ही इस बारे में और अधिक जानकारी जुटाना शुरु कर दिया कि ड्रोन से पैसे कैसे कमाये जा सकते हैं. उन्हें जल्द ही पता चला कि ड्रोन का इस्तेमाल शादी की शूटिंग से लेकर फ़ोटोग्राफ़ी, अवैध निर्माण को खोजने जैसी कई चीज़ों में होता है.  

अब आदित्य के पास अपनी वेबसाइट है और उनके पास मॉडलिंग शूट के लिए कई प्रस्ताव आए हैं. वो अपने परिवार को भी मनाने में सफ़ल रहे. भले ही इससे अच्छा पैसा कमाने में थोड़ा वक़्त लगा लेकिन उनका कहना है कि आउटडोर शूटिंग, ख़ूबसूरत जगहों पर जाना और नए लोगों से मिलना किसी भी 9-5 की नौकरी से बेहतर है.

Source: storypick