दक्षिण मुंबई के नेपियन सी रोड में लगभग 46 सालों से पानी पूरी बेचने वाले भगवती यादव की एक महीने पहले Covid-19 से संक्रमित होकर मौत हो गई थी. 

हालांकि, उनकी मृत्यु हाल ही में सामने आई, जब क्षेत्र के निवासियों ने अपने पसंदीदा पानी पूरी वाले के परिवार की मदद के लिए फंड जुटाना शुरू किया.   

दक्षिण मुंबई और आस-पास के इलाक़ों में सब यादव को 'बिसलेरी पानी पूरी वाला' के नाम से जानते थे. दरअसल, वो पानी-पूरी बनाने के लिए सादे पानी की जगह बिसलेरी का इस्तेमाल करते थे.  

mumbai
Source: ndtv

Ketto नाम की जिस वेबसाइट से भगवती के पड़ोसी रुपये क्राउडसोर्स कर रहे हैं उस पर किसी ने लिखा है, 

'46 साल से, यादव जी ने 'बिसलेरी' की पानी पूरी खिला हमेशा हमारे स्वास्थ्य का ध्यान रखा है. उनके दरियादिली की कोई सीमा नहीं थी वो कभी भी 'एक एक्स्ट्रा पूरी' के लिए मना नहीं करते थे.' 

वेबसाइट का 42 दिनों में पांच लाख रुपये इकट्ठा करने का उद्देश्य था और पहले ही दो दिनों में दो लाख रुपये से अधिक प्राप्त हो चुके हैं. 

नेपियन सी रोड के निवासी यश बैद का कहना है कि भगवती यादव अपने परिवार में एक मात्र कमाई करने वाले इंसान थे. उनका कहना है कि वो यादव जी की बेटी के सम्पर्क में हैं और परिवार की हर मुमकिन मदद करेंगे.  

panipuri
Source: binjalsvegkitchen

यादव जी का सफ़ाई के प्रति सोच उन्हें बाक़ी सभी विक्रेताओं से अलग करती थी. 

यादव जी के ठेले पर पानी पूरी खाने वाले एक शख़्स का कहना है, 'उनकी पानी पूरी का स्वाद बेहद अच्छा था. वो सब कुछ घर पर बनाते थे. आजकल लोग बना-बनाया मिक्सर इस्तेमाल, वो सब ख़ुद बनाते थे.' 

अपने पिता के लिए लोगों के अंदर इतना प्यार और सम्मान देख उनकी बेटी बेहद ख़ुश है. उसका कहना है की गिरीश अग्रवाल नामक एक व्यक्ति ने इस नेक पहल की शुरुआत की है.  

भगवती यादव की बेटी, इस समय अपनी मां के साथ उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ में अपने पैतृक गांव में हैं.