कोरोना वायरस के चलते देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के हालात बेहद ख़राब हैं. अकेले मुंबई में अब तक कोरोना के 68,410 मामले सामने आ चुके हैं. जबकि 3,844 लोगों की मौत भी हो चुकी है. 

Source: ndtv

इस बीच मुंबई के रहने वाले दो दोस्तों, शाहनवाज़ शेख़ और अब्बास रिज़वी ने कोरोना मरीज़ों की मदद के लिए अपनी एसयूवी कार बेचकर कई हॉस्पिटलों को ऑक्सीजन सिलेंडर दान किए हैं. शाहनवाज़ और अब्बास नहीं चाहते कि कोई भी कोरोना मरीज़ सांस की समस्या से परेशान होकर जान गंवाए. 

Source: ndtv

मुंबई के मलाड इलाक़े में रहने वाले शाहनवाज़ शेख़ और अब्बास रिज़वी 'यूनिटी एंड डिग्निटी फ़ाउंडेशन' नाम से एक एनजीओ चलाते हैं. ये दोनों इन दिनों ख़ुद के पैसों से कोरोना मरीज़ों को मुफ़्त में ऑक्सीजन सिलेंडर प्रदान कर रहे हैं. 

इस बीच जब इन दोनों के पास पैसे ख़त्म होने लगे तो शाहनवाज़ ने ऑक्सीजन सिलिंडर की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए अपनी एसयूवी कार तक बेची दी. 

Source: indiatimes

अब्बास एक मकसद के लिए कर रहे हैं ये नेक काम 

दरअसल, अब्बास ने छह महीने पहले ऑक्सीजन की समस्या के चलते अपनी गर्भवती चचेरी बहन को खो दिया था. अब्बास ने तभी से ही सोच लिया था कि आज के बाद किसी भी बहन, बेटी या फिर मां को ऑक्सीजन न मिल पाने की वजह से अपनी जान गंवानी न पड़े.

Source: ndtv

इस दौरान 31 साल के शाहनवाज़ शेख़ ने कहा कि, कोरोना महामारी के के चलते शहर के सैकड़ों लोग अस्पतालों में बिस्तर पर पड़े-पड़े ऑक्सीजन न मिलने की समस्या से परेशान हैं. शहर भर के कई अस्पतालों की स्थिति देखने के बाद हमने उन्हें फ़्री में ऑक्सीजन सिलेंडर देने का फ़ैसला किया है. 

Source: ndtv
इस मुश्किल समय में हम अमीर हो या ग़रीब, हिंदू हो या मुस्लिम हर ज़रूरतमंद की मदद कर रहे हैं. अब हमारी इस मुहिम में कई डॉक्टर भी साथ आ रहे हैं. वर्तमान में हम केवल मुंबई में ही ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचा पा रहे हैं. 
Source: indiatimes

बता दें कि शाहनवाज़ शेख़ और अब्बास रिज़वी अब तक 250-300 ऑक्सीजन सिलेंडरों की आपूर्ति कर चुके हैं. इस दौरान ऑक्सीजन टैंक 48 घंटे की अवधि के लिए निःशुल्क प्रदान किए जाते हैं. प्रतिदिन औसतन 10-15 सिलेंडर लोगों को दिए जाते हैं.