दिवाली के बाद से ही श्रद्धालु छठ की तैयारियों में जुट जाते हैं. स्वच्छता का पर्व, छठ आसान नहीं है. छठ से जुड़ी कई अनोखी बातों में से एक ये भी है कि बिहार के कई मुस्लिम परिवार भी ये व्रत रखते हैं.


पटना के अदालतगंज इलाक़े के लोग दशहरे से ही छठ की तैयारियों में लग जाते हैं. यहां के कई मुस्लिम परिवार मिट्टी के चूल्हों का निर्माण करते हैं. छठ प्रसाद चूल्हे पर ही बनाया जाता है.

Source: Amar Ujala

Times of India की रिपोर्ट के मुताबिक़, उरेशा ख़ातून, शाहीना, नजमा और 50 अन्य परिवार दशकों से चूल्हे बनाने का काम करते आ रहे हैं.


चूल्हे बनाने का काम करनेवाले पर्व की पवित्रता को ध्यान में रखते हुए महीनेभर तक मांसाहारी व्यंजन, प्याज़-लहसुन नहीं छूते.

38 साल की उरेशा 14 साल की उम्र से चूल्हे बना रही है.

मुझे चूल्हे बनाना बहुत पसंद है. जब कोई काम की तारीफ़ करता है तो अच्छा लगता है. मैं शुद्धता को ध्यान में रखते हुए दशहरे के बाद से और छठ पूजा ख़त्म होने तक मैं सिर्फ़ चावल, दाल और रोटी खाती हूं.

- उरेशा

Source: Live Hindustan

51 वर्षीय इमरान चूल्हों की शुद्धता का ख़ास ध्यान रखते हैं और ट्रेडिशनल तरीके से चूल्हे बनाते हैं.

ये चूल्हे आत्मीयता और बहुत ध्यानपूर्वक बनाए जाते हैं. छठ बिहार का बहुत बड़ा पर्व है और मैं लाभ के लिए या बिज़नेस करने के लिए चूल्हे नहीं बनाता. हम दाम को लेकर भी तोल-मोल नहीं करते.

- इमरान

एक चूल्हा 60 से 100 रुपये तक का आता है. चूल्हाबनाने वाले सुपर मार्केट या मॉल्स को चूल्हा बेचने लगे हैं क्योंकि ख़रीदारों को वहां से ख़रीदने में सुविधा होती है.

मेरा पूरा परिवार सारे काम छोड़कर चूल्हा बनाने का ही काम करता है. आम दिनों में हम कपड़े लेकर एल्युमिनियम के बरतन बेचते हैं.

- नजमा

Source: News 18
श्रद्धालुओं के लिए चूल्हा बनाकर हम ऊपरवाले के और क़रीब हो जाते हैं. हम बहुत क़िस्मतवाले हैं कि हमें ये काम करने को मिला.

- शाहीना

इस बार बाढ़ की वजह से चूल्हा बनाने वालों को सोन और पुनपुन नदी से मिट्टी लाने में बहुत दिक्कतें आईं पर उन्होंने अपना काम बंद नहीं किया.