हिंदुस्तान एक ऐसा देश है, जहां अकसर ही हिंदू-मुस्लिम की एकता की मिसाल दिखाई देती है. हाल ही में एक ऐसा ही किस्सा वाराणसी में भी देखने को मिला. जहां कुछ मुस्लिम युवकों ने सांप्रदायिकता की मिसाल पेश करते हुए एक हिंदू लड़की का अंतिम संस्कार कराया. रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीते रविवार हरहुआ डीह क्षेत्र की रहने वाली 19 वर्षीय सोनी की मृत्यु हो गई. सोनी कुछ समय से मलेरिया से ग्रसित थी, जिस वजह से उसे बचाया नहीं जा सका.

Muslim Men
Source: India Today

कुछ साल पहले मृतक सोनी के पिता होरीलाल विश्वकर्मा को लकवा मार गया था. इसके साथ ही उसकी मां भी दिल की बीमारी से जूझ रही है. इसलिये घर की सारी ज़िम्मेदारी अकेले उसके भाई कंधों पर है. सोनी के निधन के बाद पड़ोस में रहने वाले कुछ मुस्लिम लोग होरीलाल के घर आये और उन्होंने सोनी के अंतिमसंस्कार में उसके भाई की मदद की.

Cremation
Source: India Times

मुस्लिम युवकों ने मृतिका के भाई से कहा कि उसे दाह संस्कार को लेकर टेंशन लेने की ज़रूरत नहीं है. इन लोगों ने न सिर्फ़ सोनी के शव को कंधा दिया, बल्कि पूरे रास्ते 'राम नाम सत्य है' के नारे भी लगाए. मुस्लिम युवाओं ने हिंदू धर्म के रीति-रिवाज का पालन करते हुए सोनी के शव को मणिकर्णिका घाट तक पहुंचाया. इसके साथ इन्होंने इस परिवार को अंतिम संस्कार के लिये आर्थिक सहयोग भी दिया.

ये ख़बर जानने वाला हर शख़्स इन युवाओं के इस कदम की सराहना कर रहा है.