देश के विभिन्न इलाकों में आज पहले चरण का मतदान हो रहा है. इस बीच पहला विवाद सामने आ चुका है.

नोएडा के सेक्टर-15ए में 'नमो फ़ूड्स' ने सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोरी हैं. पोलिंग बूथ के पास चुनावी गाड़ियों में वैसे फ़ूड पैकेट्स देखे गए हैं, जिनके ऊपर 'नमो फ़ूड्स' लिखा हुआ है.

विरोधी पार्टी इसे आचार संहिता का उल्लंघन बता रहे हैं. हालांकि पुलिस ने साफ़ किया कि ये खाना स्थानीय दुकान से मंगवाया गया है, इसे किसी राजनैतिक पार्टी से जोड़ कर नहीं देखा जाना चाहिए. इससे आचार संहिता का उल्लंघन नहीं होता.

खाने के पैकेट पोलित पार्टियों के लिए ऑर्डर किए गए थे और 'नमो फ़ूड्स' पैकेट को पुलिस की गाड़ियों में भी देखा गया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, उत्तर प्रदेश के राज्य निर्वाचन आयुक्त एल. वेंकटेश्वर लू ने गौतमबुद्ध नगर के डीएम से रिपोर्ट तलब की है. ज़िले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी वैभव कृष्ण ने अपने आधिकारिक बयान में कहा है कि खाने के पैकट एक स्थानीय दुकान 'नमो फ़ूड शॉप' से मंगवाए गए हैं, इसका किसी राजनैतिक पार्टी से संबंध नहीं है.

एडिशनल चीफ़ इल्केशन ऑफ़िसर बीआर तिवारी ने अपने बयान में कहा कहा, 'हमें इस बारे में मीडिया की ख़बरों से ही पता चला, वो दुकान काफ़ी पुरानी है. 10 साल से ये दुकान इसी नाम से चल रही है, मीडिया में उसे दूसरे ढंग से दिखाया गया है.'