शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूसरे कार्यकाल को 1 साल हो गये. इस अवसर पर उन्होंने देशवासियों के लिए खुला पत्र लिखा. पत्र के शुरुआत में मोदी ने लिखा कि हालात सामान्य होते तो वो जनता के बीच होते लेकिन इन हालातों में वे पत्र के ज़रिए ही सबकी शुभकामनाएं और आशीर्वाद की अपेक्षा रखते हैं.

Source: India TV News

पत्र में लिखी मुख्य बातें इस प्रकार हैं- 

1. 2014 में देश ने बदलाव के लिए मतदान किया. बीते 5 सालों में ने राष्ट्र ने ख़ुद को कुशासन और भ्रष्टाचार के चंगुल से आज़ाद किया. करोड़ों देशवासियों की ज़िन्दगी बदल गई. 2014 से 2019 के बीच देश की उन्नति हुई है. ग़रीबों को सम्मान मिला है. देश ने फ़ाइनेंशयल इन्क्लूजन हासिल किया, मुफ़्त गैस और बिजली के कनेक्शन, पूर्ण स्वच्छता और 'सबके लिए आवास' की तरफ़ तेज़ी से बढ़ते क़दम.


2. भारत ने अपनी शूरवीरता सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक के ज़रिए दिखाई. दशकों पुरानी मांगें, वन रैंक वन पेंशन, वन नेशन वन टैक्स, किसानों के लिए बेहतर एमएसपी पूरी की गई. 

मोदी ने इसके बाद लिखा कि 2019 में भारत ने एक सपने के साथ वोट किया- भारत को नई ऊंचाइयों तक ले जाने का सपना. भारत को ग्लोबल लीडर बनाने का सपना.  

इसके बाद मोदी ने बीते एक वर्ष में लिए गए कुछ महत्त्वपूर्ण निर्णयों के बारे में लिखा 

3. आर्टिकल 370 पर लिए गए निर्णय ने राष्ट्रीय एकता-अखंडता को सुृदृढ़ किया. राम मंदिर पर आये निर्णय ने सदियों से चल रहे वाद-विवाद पर विराम लगाया. ट्रिपल तलाक़ अब बस इतिहास के कचरे के डब्बे में है. नागरिकता संशोधन क़ानून भारत की करुणा और समग्रता की भावना का प्रतीक था.


4. चीफ़ ऑफ़ डिफ़ेंस स्टाफ़ पोस्ट पद का गठन काफ़ी समय से रुका हुआ था. इसी के साथ ही भारत ने मिशन गगनयान की तैयारियां भी शुरू कर दी हैं.    

5. ग़रीबों, किसान, महिलाओं और युवा सशक्तिकरण ही हमारी प्राथमिकता रही. 

6. पीएम किसान सम्मान निधि से सारे किसान जुड़े हैं. 1 साल में ही 9 करोड़, 50 लाख से ज़्यादा किसानों के खाते में 72,000 करोड़ जमा किए जा चुके हैं. जल जीवन मिशन 15 करोड़ ग्रामीण घरों को पीने का पानी मुहैया करवाएगी. 50 करोड़ पशुओं के अच्छे स्वास्थ्य के लिए फ़्री वैक्शिनेशन कैंपेन चलाया जा रहा है.


7. देश के इतिहास में पहली बार, किसान, खेत के मज़ूदरों, छोटे दुकानदारों और असंगठित सेक्टर के मज़दूर जिनकी उम्र 60 से अधिक है उनको हर महीने 3,000 की पेंशन मिल रही है. बैंक लोन देने के अलावा मछुआरों के लिए एक अलग डिपार्टमेंट बनाया गया. फ़िशरी सेक्टर को सुदृढ़ करने के लिए कई निर्णय लिए गये. इससे ब्लू इकोनॉमी बढ़ेगी.  

8. व्यापारियों की समस्याओं के निवारण के लिए व्यापारी कल्याण बोर्ड बनाया गया. सेल्फ़-हेल्प ग्रुप से जुड़ी 7 करोड़ महिलाओं को आर्थिक मदद दी जा रही है. सेल्फ़ हेल्प ग्रुप के बिना गारंटी के लोन को 10 लाख से बढ़ाकर 20 लाख कर दिया गया है.


9. आदिवासी बच्चों की शिक्षा के लिए हमने 400 नये एकलव्य मॉडल रेसिडेंशियल स्कूल बनाना शुरू कर दिया है. 

10. सरकार की पॉलिसियों की बदौलत शहरी और ग्रामीण इलाके की बीच की खाई कम हो रही है.  

प्रधानमंत्री ने कोरोना वैश्विक महामारी, मज़दूरों की बदहाली, तूफ़ान अम्फ़न पर भी बात की. प्रधानमंत्री ने जनता से अपील की अभी देश जिन चुनौतियों से गुज़र रहा है उन्हें हम अपने ऊपर हावी होने न दें.


प्रधानमंत्री का पूरा ख़त यहां पढ़ सकते हैं