नवीनतम रैकिंग में न्यूज़ीलैंड का पासपोर्ट दुनिया का सबसे शक्तिशाली पासपोर्ट घोषित किया गया है. हालिया पासपोर्ट इंडेक्स में शामिल यूएन के 193 देशों की लिस्ट में न्यूज़ीलैंड ने जापान को पीछे छोड़ते हुए ये मुक़ाम हासिल किया है. वहीं, इस लिस्ट में भारत 58वें स्थान पर है. 

Source: indiatimes

महामारी से पहले न्यूज़ीलैंड के पास कम देशों तक बिना वीज़ा या ऑन अराइवल वीज़ा की सुविधा थी, लेकिन ये रैकिंग बताती है कि कि कीवी पासपोर्ट धारक अन्य देशों की तुलना में यात्रा प्रतिबंधों से उतना प्रभावित नहीं हुए हैं.

अब 129 देश न्यूज़ीलैंड को वीज़ा मुक्त पहुंच दे रहे हैं. भले ही ये महामारी से छह महीने पहले की तुलना में 80 स्थान ऊपर है, लेकिन ये 2019 की तुलना में 40 स्थान कम है.

Source: stuff

जर्मनी, ऑस्ट्रिया, लक्ज़मबर्ग, स्विट्जरलैंड, आयरलैंड, दक्षिण कोरिया और ऑस्ट्रेलिया समेत जापान दूसरे नंबर पर है. वहीं, ज़्यादातर यूरोपीय देश टॉप 10 में आते हैं. इसमें से कई देश कुछ प्रतिबंधों के अलावा अभी भी Schengen 'free movement' ज़ोन तक पहुंच बनाए हुए हैं. 

Source: theconversation

पासपोर्ट रैंकिंग में संयुक्त राज्य अमेरिका 21 वें स्थान पर आ गया. भले ही उसकी रैंकिंग में जुलाई की तुलना में कुछ सुधार हुआ है, लेकिन अमेरिकी पासपोर्ट धारकों को पहले जो स्वतंत्रता मिली थी, वो COVID-19 के चलते बुरी तरह प्रभावित हुई है. जुलाई में 28वें स्थान के साथ अमेरिका की रैकिंग मेक्सिको और उरुग्वे से भी नीचे पहुंच गई थी.

बता दें, भारतीय पासपोर्ट रैंकिंग में अल्जीरिया, गैबॉन, जॉर्डन और बेनिन के साथ 58 वें स्थान है.