1 सितंबर से देशभर में 'संशोधित मोटर व्हीकल एक्ट' लागू होने के बाद से ही यातायात नियमों को तोड़ने पर लोगों को भारी जुर्माना चुकाना पड़ रहा है.

Source: bhaskar

सरकार के इस फ़ैसले को लेकर लोगों के बीच काफ़ी नाराज़गी देखी जा रही है. वाहन चालकों की परेशानियों को देखते हुए कई राज्यों ने इसे लागू करने से इंकार कर दिया है. बीजेपी शासित गुजरात भी इससे अछूता नहीं है.

Source: financialexpress

गुजरात सरकार ने सबसे पहले नियमों में बदलाव कर जुर्माना राशि घटाई थी. कई मामलों में ये आधी तो कुछ मामलों में 90% तक कम की गई है. इसके बाद गुजरात में सोमवार से नए ट्रैफ़िक नियम भी लागू हो गए हैं. इसके बाद भी लोग विरोध कर रहे हैं.

Source: navbharattimes

सोमवार से लागू हुए नए नियमों के विरोध में लोग नए-नए तरीके अपना रहे हैं. सौराष्‍ट्र और राजकोट शहर में लोग इसके विरोध में सिर पर बर्तन पहनकर निकल रहे हैं.

नए नियम प्रभाव में आने के बाद पहले दिन राजकोट में ट्रैफ़िक डिपार्टमेंट ने 240 ड्राइवरों का चलान कर 1.14 लाख रुपये वसूल किए. उधर, स्‍थानीय व्‍यापार संगठन जल्‍द ही हड़ताल पर जाने की योजना पर काम कर रहे हैं.

Source: ndtv

बता दें कि ट्रैफ़िक नियमों के उल्लंघन पर केंद्र के बढ़ाए जुर्माने को गुजरात सरकार ने 25% से 90% तक कम कर दिया है. जबकि शराब पीकर गाड़ी चलाने और ट्रैफ़िक सिग्नल तोड़ने का जुर्माना नहीं बदला है, क्योंकि सरकार ने इनमें बदलाव के प्रावधान नहीं दिए हैं.

Source: livemint

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने कहा है कि उनकी सरकार का मकसद ज़्यादा जुर्माना वसूलना या लोगों के ख़िलाफ़ केस दर्ज करना नहीं है. नए कानून को बिना कड़ी सजा दिए लागू करना मुमकिन नहीं है. इसलिए हमने हमने मानवीय रुख अपनाकर जुर्माना कम किया है. लेकिन उन मामलों में बिलकुल भी नरमी नहीं बरती जाएगी जहां लोगों की जान चली गई हो.