पूरी दुनिया इस वक़्त कोरोना वायरस से जंग लड़ रही है. भारत भी इस लड़ाई में अपनी एड़ी-चोटी तक का ज़ोर लगा रहा है. ऐसे में कुछ लोग ख़ुद की फ़िक्र छोड़कर पूरे समाज की सुरक्षा के लिए दिन-रात मेहनत कर रहे हैं. फ़ार्मासिस्ट भी इन कोरोना वॉरियर्स में से एक हैं.

वो लगातार काम कर रहे हैं क्योंकि किसी को तो करना ही है. ऐसे ख़तरनाक माहौल में अपनी जान जोख़िम में डालकर काम करने वाले एक फ़ार्मासिस्ट ने Humans of Bombay से बातचीत के दौरान बताया.

‘मैं 10 साल की उम्र से अपने पिता के साथ फ़ार्मेंसी स्टोर चला रहा हूं. ऐसे में जो काम मैं सालों से करता आया हूं, वो COVID-19 संकट के समय बंद नहीं कर सकता. मुझे डर लगता है, मेरी पत्नी और बच्चों को भी चिंता होती है. लेकिन मुझे अपनी शॉप खोलनी ही है ताकि लोगों को उनके इलाज में परेशानी न हो.’

Source: instagram/Humans of Bombay

उन्होंने कहा कि महामारी के समय ये ज़रूरी हो जाता है कि लोगों को समय पर उनकी दवाएं मिल सकें. फिर भले ही इसके लिए आधी रात को ही क्यों न जागना पड़े.

‘मेरे एक रेगुलर कस्टमर ने एक बार मुझे आधी रात को बुलाया. उन्हें अपने पिता के लिए दवाओं की तुरंत ज़रूरत थी. मैं उसी वक़्त घर से निकला और दुक़ान खोली. कई बार तो मैं पैसा भी नहीं लेता और कभी भी देर रात के लिए फ़ीस नहीं वसूल करता.’

Source: instagram/Humans of Bombay

उन्होंने बताया कि मेरा काम तब सार्थक हो जाता है, जब ऐसे लोग जिनके पास संसाधन नहीं होते हैं, वो भी ईमानदारी दिखाते हैं और आभार व्यक्त करते हैं.

‘एक बार की बात है, एक गांव वाला मेरे पास आया. उसे दवा की सख़्त ज़रूरत थी, लेकिन उसके पास पैसा नहीं था. मैंने उसे दवा दी और कहा जब पैसा हो तो वापस कर देना. साथ ही उसे खाने के लिए भी कुछ पैसा दिया. पैसे लौटाने के लिए तीन हफ़्ते बाद वो शख़्स वापस आया और मेरे पैर पर गिरकर शुक्रिया अदा किया. ये कुछ पल हैं, जो मुझे काम करने के लिए प्रेरित करते रहते हैं.'

आख़िर में उन्होंने बताया कि वो सिर्फ़ लोगों की सेवा करना चाहते हैं, जैसा उनके पिता ने उन्हें सिखाया है.

View this post on Instagram

“I’ve been running a pharmacy store with my father since I was 10, so when COVID-19 hit, I wasn’t going to stop what I’ve been doing all these years. I was scared, so were my wife & kids, but I have to keep my shop open so that people can get their medication. I open my store at 7am & work for around 13 hours everyday - but even after I close the store for the day–work doesn’t stop. Once, a regular customer called me in the middle of the night - he needed medicines for his father urgently but all stores were closed. I immediately left home to open my store & gave the medicines. Often I don’t even charge people for it & have never charged a late night fee. A villager once came to my store in dire need of medicine - I gave it for free, told him to pay me back whenever he could & gave him money for food. He came back 3 weeks later to pay & fell on my feet thanking me profusely - it’s such moments that keep me going. That & my family. My daughter constantly calls & asks me to be safe. My wife coaxes me to not go out everyday. She says, ‘What if something happens to you?’. But I think, what will happen to all the patients who need medicines for their diabetes & blood pressure if I don’t go? I can’t have someone suffer on my conscience - & I believe that the good wishes that I receive, will protect & keep me safe. Even as a child, I’ve been taught I should always try & make someone else’s life easier before mine. But even after everything, people don’t really see our value in society. Recently, a customer urgently needed medicine in the middle of the night - I opened my store for him but he was short of Rs 30. I didn’t want to trouble him so I told him that he could pay me later. But the next day, he came back to return all the medicines, accused me of charging him more, said hurtful things & left! I felt terrible & thought that if they can’t respect me, why should I go out of my way to make sure that they face no problems? But I had to let it go– it wasn’t the fault of those who genuinely needed medicines. My father once said that I should be of service to people & that I should be remembered for a good deed - so I’m just relentlessly working towards that.”

A post shared by Humans of Bombay (@officialhumansofbombay) on