चुनाव की गहमागहमी चारों तरफ़ है. सारे कैंडिडेट्स ज़ोर-शोर से प्रचार में लगे हैं. कोई फ़सल काट रहा है, तो कोई किसी ग़रीब के घर जाकर खाना खा रहा है.

रैलियों पर रैलियां हो रही हैं, पब्लिक के साथ नेतागण मुख़ातिब हो रहे हैं. कांग्रेस की भी एक पब्लिक मीटिंग चल रही थी पर पब्लिक मीटिंग में कई कुर्सियां खाली पड़ी थी. Times Now की रिपोर्ट के मुताबिक, एक तमिल मैगज़ीन का फ़ोटोजर्नलिस्ट जब खाली कुर्सियों की तस्वीर लेने लगा तो कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आपा खो दिया.

सोशल मीडिया पर काफ़ी शेयर किए जा रहे वीडियो में पार्टी वर्कर्स पत्रकार को मारते-पीटते और उनका कैमरा छीनते नज़र आ रहे हैं. जब दूसरे पत्रकार बीच-बचाव में आते हैं, तो कार्यकर्ता उन्हें भी नहीं छोड़ते.


आख़िर में पुलिस को बीच-बचाव के लिए आना पड़ता है. जहां ये पब्लिक मीटिंग चल रही थी, वहां तमिलनाडु के कांग्रेस प्रेसिडेंट और के.एस.अलागिरी भी मौजूद थे.

Source: The World News

घायल पत्रकारों को अस्पताल ले जाया गया जहां उनका इलाज चल रहा है. चैन्नई प्रेस क्लब ने घटना की निंदा की है.


पार्टी प्रेसिडेंट राहुल गांधी अपने रैली और रोड शोज़ के दौरान घायल और बेहोश हो गए पत्रकारों की सहायता करते नज़र आए हैं और कार्यकर्ता मार-पीट.