निज़ामुद्दीन मरकज में शामिल हुए कुछ कोरोना संदिग्धों को गाज़ियाबाद के एक आइसोलेशन सेंटर में रखा गया था. यहां पर इन लोगों न सिर्फ़ मेडिकल स्टाफ़ को परेशान किया, बल्कि नर्सों के साथ अभद्रता भी की. गाज़ियाबाद के सीएमओ डॉ. एन. के. गुप्ता ने इसकी लिखित शिकायत मिलने के बाद सभी दोषियों के खिलाफ़ उचित कर्रवाई करने का आश्वासन दिया है. वहीं मामले का संज्ञान लेते हुए यूपी के सीएम ने इन पर रासुका(राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून) के तहत एक्शन लेने के निर्देश दिए हैं.

शिकायत

ये पूरी घटना गाज़ियाबाद ज़िले के एमएमजी अस्पताल की है. यहां कोरोना संदिग्धों के लिए आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है. दिल्ली से आए कुछ संक्रमितों को यहां पर रखा गया. इनमें से कुछ निज़ामुद्दीन के मरकज में शामिल हुए थे. इन्होंने उनकी सेवा में लगे स्टाफ़ के सामने ही कपड़े उतारने और अन्य प्रकार की अभद्रता की थी.

वहां काम करने वाली नर्सों ने इसकी लिखित शिकायत सीएमओ को भेजी थी. उसके बाद ये एक्शन लिया गया है. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का कहना है कि ऐसी हरकतें करने वालों को साथ सख़्ती से पेश आना ज़रूरी है. उन्होंने कहा- 'ये मानवता के दुश्मन हैं, इन्होंने जो किया है, वो जघन्य अपराध है, इन पर रासुका (एनएसए) लगाया जा रहा है, हम इन्हें छोड़ेंगे नहीं.'

योगी आदित्यनाथ
Source: yahoo

नर्सों के साथ बदसलूकी करने वाले 5 मरीज़ों की पहचान कर ली गई है. उनके ख़िलाफ़ गाज़ियाबाद पुलिस ने एफ़आईआर भी दर्ज कर ली है. उन्हें अब किसी दूसरे आइसोलेशन वार्ड में शिफ़्ट किया जा रहा है.

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.