मालेगांव हमले की आरोपी 'साध्वी प्रज्ञा' को बीजेपी ने भोपाल से 2019 के इलेक्शन में उतारा है. प्रज्ञा ने 26/11 के आतंकी हमले में शहीद ATS चीफ़ हेमंत करकरे के लिए कहा, 'वो इसलिए मरा क्योंकि मैंने उसे श्राप दिया था'.

26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले में कई जवान और पुलिस कर्मी शहीद हुए थे, जिनमें से एक हेमत करकरे भी थे. प्रज्ञा जिस रैली में ये बयान दे रही थी, उस रैली में बीजेपी के कई लोग थे. जिन सभी ने इस बयान के बाद ख़ूब तालियां पीटी.

प्रज्ञा के प्रत्याशी होने पर वैसे ही कई सवाल खड़े किये जा रहे थे क्योंकि उस पर से ब्लास्ट के आरोप अभी तक हटे नहीं हैं और वो बेल पर है. ऐसे में बीजेपी का उसे सीट देना कई प्रश्न चिन्ह लगाता है.

एंटी-टेरर स्क्वाड के चीफ़ रहे शहीद हेमंत करकरे ने मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी, प्रज्ञा को मुंबई हमले से दो महीने पहले इंटेरोगेट किया था. अपने इस बयान में प्रज्ञा ने कई और आपत्तिजनक चीज़ें कही हैं.

मैंने उसे कहा था कि उसका सर्वनाश हो जाएगा और ऐसा ही हुआ, दो महीने के अंदर उसे आतंकवादियों ने मार दिया.

इन्वेस्टीगेशन टीम ने उसे कहा था कि अगर तुम्हारे पास एविडेंस नहीं हैं, तो तुम इसे जाने दो. लेकिन उसने कहा कि वो मेरे ख़िलाफ़ कहीं से भी एविडेंस लेकर आएगा. मुझे जाने नहीं देगा. ये उसकी कुटीलता थी. वो देशद्रोही था, धर्मविरुद्ध था. आप यकीन नहीं करेंगे कि मैंने उसे कहा था, तेरा सर्वनाश होगा और देखिए सवा महीने में आतंकवादियों ने उसे मार दिया.

प्रज्ञा ठाकुर के इस बयान के बाद वहां मौजूद बीजेपी नेता इस बयान के समर्थन में तालियां बजाने लगे.


इलेक्शन का समय है, हर पार्टी अपने एन्ड से सत्ता के लिए एड़ी चोटी का ज़ोर लगाएगी. ये फ़ैसला आपको करना है कि आप अपना भविष्य किस के हाथ में देते हैं.