एशिया की सबसे बड़ी जेल दिल्ली में है जिसे सभी तिहाड़ जेल के नाम से जानते हैं. इस जेल के बारे में कहा जाता है कि ये देश की सबसे सुरक्षित जेल है. लेकिन हाल ही में तिहाड़ जेल में एक कैदी की पीठ पर जबरन ओम गुदवाने का मामला सामने आया है. इससे के बाद से ही जेल प्रशासन सवालों के घेरे में खड़ा नज़र आ रहा है.

Source: jagran.com

पीड़ित कैदी का नाम नब्बीर है. इन्होंने जेल सुप्रीटेंडेंट पर पीठ पर जबरन ओम का निशान गोदने का आरोप लगाया है. इसका ख़ुलासा तब हुआ, जब पेशी पर आए नब्बीर ने कोर्ट रूम में अपनी टी-शर्ट उतारकर पीठ पर छपा निशान जज को दिखाया.

कोर्ट ने मामले का संज्ञान लेते हुए जांच के आदेश दे दिए हैं. साथ ही तिहाड़ जेल प्रशासन को 24 घंटे के अंदर जवाब देने का आदेश दिया है.

नब्बीर दिल्ली के न्यू सीलमपुर इलाके का रहने वाला है. उस पर हथियारों की अवैध तस्करी का आरोप है. इस केस में अदालत ने उसे न्याहिक हिरासत में भेज दिया था. उसे तिहाड़ जेल के वॉर्ड नंबर 4 में रखा गया था.

नब्बीर का कहना है कि, जेल अधिकारियों ने उसे मारा-पीटा, उपवास रखने के लिए भी कहा. वहीं जेल अधिकारियों का कहना है कि, कुछ दिनों पहले उसकी जेल के दूसरे कैदियों के साथ लड़ाई हो गई थी. उस पर जेल में अवैध रूप से मोबाईल फ़ोन इस्तेमाल करने के भी आरोप है. उसके ख़िलाफ जेल प्रशासन ने कार्रवाई की थी इसलिए वो जेल प्रशासन से ख़फा है.

जेल प्रशासन का कहना है कि CCTV फ़ुटेज और दूसरे कैदियों के बयान इस संदर्भ में अदालत में जमा कराए जाएंगे. फ़िलहाल डीआईजी रैंक के अधिकारी की देख-रेख में मामले की जांच चल रही है. जांच पूरी होने के बाद विस्तृत रिपोर्ट अदालत में पेश की जाएगी.