कोरोना वायरस के चलते इन दिनों देशभर में 21 दिनों तक का लॉकडाउन जारी है. ऐसे में लोगों का घरों से बाहर निकलने में पूरी तरह से पाबंदी है. इस दौरान घरों में बंद लोगों की मदद के लिए कुछ लोग दिन रात काम में लगे हुए हैं.

इन्हीं एक सफ़ाई कर्मचारी भी हैं, जो हमेशा की तरह इस मुश्किल घड़ी में भी हमें गंदगी और बीमारी से दूर रखने की पूरी कोशिश कर रहे हैं.

Source: tribuneindia

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो ख़ूब वायरल हो रहा है, जिसमें लोग सफ़ाई कर्मचारियों के ऊपर फूल बरसा रहे हैं और उनके गले में नोटों की माला डालकर उनका शुक्रिया अदा कर रहे हैं.

दरअसल, ये वीडियो पंजाब के पटियाला के नाभा इलाके का बताया जा रहा है. जब ये सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा तो पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने विपरीत परिस्थितियों में लोगों द्वारा सफ़ाई कर्मचारियों का सम्मान करने के लिए उनकी जमकर सराहना की.

Source: timesnownews

मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने इस वीडियो को अपने ट्विटर हैंडल से साझा करते हुए कहा, ये देखकर बेहद ख़ुशी हुई कि नाभा में लोग स्वच्छता कर्मियों का सम्मान कर रहे हैं और उनके प्रति प्रेम जता रहे हैं. ये एक सुखद एहसास है कि मुश्किल वक्त में हमारी आंतरिक अच्छाइयां सामने आती है. कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ अग्रिम पंक्तियों में लड़ रहे लोगों का ऐसे ही उत्साह बढ़ाएं.

निसंदेह: पंजाब के लोगों का ये प्रयास एक अच्छा कदम है कि अब हमने इन लोगों की तरफ़ देखना शुरू कर दिया है जिनके बारे में हम कभी बात भी नहीं करते थे. इसके साथ ही कई सवाल भी उठते हैं कि क्या हम इन सफ़ाई कर्मचारियों को भविष्य में भी इसी तरह का मान सम्मान देते रहेंगे? कोरोना वायरस ख़त्म होने के बाद भी क्या हम उनके ऊपर इसी तरह फूल बरसायेंगे? क्या आगे भी इसी तरह उन्हें गले लगाकर उनकी पीठ थपथपाएंगे?

क्या लॉकडाउन ख़त्म होने के बाद भी हम इन्हें याद रखेंगे? क्या इन ग़रीब सफ़ाई कर्मचारियों के लिए सिर्फ़ फूलों की माला ही काफी है या फिर हम कभी इनकी सैलरी, सुविधाओं और सेफ़्टी की बात भी करेंगे?

इस मुश्किल दौर में हम डॉक्टर, नर्स, पुलिसवालों और सफ़ाई कर्मचारियों की इस कड़ी मेहनत के लिए उनके शुक्रगुज़ार हैं. हम उम्मीद करते हैं कि पंजाब की तरह ही देशभर में भी लोग सफ़ाई कर्मचारियों के साथ इसी तरह का अच्छा व्यवहार करें.