बिहार में इसी साल अक्टूबर महीने में विधानसभा चुनाव होने हैं. चुनावों को लेकर राजनीतिक पार्टियां अभी से तैयारियों में जुट गयी हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एनडीए के मुख्यमंत्री उम्मीदवार हैं, तो तेजस्वी यादव महागठबंधन की तरफ़ से मुख्यमंत्री पद की रेस में होंगे. लेकिन अब एक महिला मुख्यमंत्री उम्मीदवार सबकी नींदें उड़ा दी हैं.

Source: ndtv

बीते रविवार को बिहार के कई अख़बारों में छपे एक विज्ञापन ने सबको चौंका दिया है. विज्ञापन में पुष्पम प्रिया चौधरी नाम की एक महिला ने ख़ुद को बिहार 'विधानसभा चुनाव 2020' में मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बताया है. विज्ञापन के ज़रिए ही इस महिला ने जानकारी दी है कि उसने 'प्लूरल्स' नाम की एक राजनीतिक पार्टी बनाई है जिसकी अध्यक्ष वो ख़ुद हैं. इसके साथ ही उन्होंने 'जन गण सबका शासन' स्लोगन भी दिया है.

Source: livehindustan

आख़िर कौन हैं ये पुष्पम प्रिया चौधरी?

नीतीश को चुनौती देने वाली पुष्पम प्रिया चौधरी जेडीयू नेता व पूर्व एमएलसी विनोद चौधरी की बेटी हैं. पुष्पम प्रिया चौधरी बिहार के दरभंगा की रहने वाली हैं. प्राथमिक शिक्षा दरभंगा से लेने के बाद पुष्पम प्रिया ने अपनी आगे की पढ़ाई पुणे से की. बाद में वो उच्च शिक्षा के लिए लंदन चली गईं और फिलहाल वहीं रह रही हैं.

Source: amarujala

पुष्‍पम प्रिया चौधरी ने 'लंदन स्‍कूल ऑफ़ इकोनॉमिक्‍स एंड पॉलिटिकल साइंस' से पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में एमए किया है. साथ ही इंग्लैंड के 'द इंस्टीट्यूट ऑफ़ डेवलपमेंट स्टडीज विश्वविद्यालय' से डेवलपमेंट स्‍टडी में भी एमए किया है.

Source: muzaffarpurnow

प्रिया इस विज्ञापन के बाद से मीडिया की सुर्खियों में बनी हैं. इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह हैं उनके पिता का जेडीयू से नाता. फिलहाल प्रिया ने मीडिया के कैमरों से दूरी बना ली है, लेकिन वो टि्वटर पर भी काफी एक्टिव हैं.

बिहार की जनता को लिखा पत्र

पुष्पम प्रिया चौधरी ने विज्ञापन में बिहार की जनता को एक पत्र भी लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि वह अगर वह बिहार की मुख्यमंत्री बन जाती हैं तो 2025 तक बिहार को देश का सबसे विकसित राज्य बना देंगी और 2030 तक इसका विकास यूरोपियन देशों जैसा होगा.

Source: 24ghanteonline

पिता बोले बेटी के साथ है उनका आशीर्वाद

पुष्पम प्रिया के पिता जेडीयू नेता विनोद चौधरी ने विनोद चौधरी ने दरभंगा में मीडिया से बातचीत में कहा कि, मेरी बेटी विदेश में पढ़ी-लिखी है. वो बालिग है, हम दोनों के बीच एक पीढ़ी का अंतर है. बेटी और मेरी सोच में फर्क होना चाहिए. वो कर रही है सोच समझकर ही कर रही होगी, पिता होने के कारण मेरा आशीर्वाद उसके साथ है.

Source: twitter

मीडिया के सवालों के जवाब में विनोद चौधरी ने कहा फिलहाल वो नीतीश कुमार के साथ हैं, लेकिन आनेवाले समय में कौन क्या करता है, ये समय ही बताएगा. फिलहाल वो इस बार भी पार्टी के कहने पर एमएलसी के उम्मीदवार हैं और चुनाव मैदान में हैं. अगर बेटी के कारण पार्टी उनपर कार्रवाई करती है तो भी वो चुनाव में बने रहेंगे.