भारतीय रेलवे ने 30 जून तक यात्रा के लिए बुक किए गए सभी नियमित ट्रेन टिकटों को रद्द कर दिया है. रेलवे ने घोषणा की है कि ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है और उन सभी यात्रियों को फ़ुल रिफंड जारी किया जाएगा, जिन्होंने इन विशेष ट्रेनों में यात्रा के लिए टिकट बुक किए थे.  

Source: dnaindia

हालांकि, श्रमिक स्पेशल ट्रेनें और 12 मई से शुरू की गईं स्पेशल ट्रेनें चलती रहेंगी. श्रमिक स्पेशल ट्रेनें विभिन्न राज्यों के प्रवासी मज़दूरों को उनके गृह राज्यों में ले जा रही हैं, जबकि विशेष ट्रेनें देशभर में फंसे हुए भारतीयों के लिए 15 मार्गों पर चल रही हैं.   

रेलवे ने धीरे-धीरे ट्रेन सेवाओं को बहाल करने के उद्देश्य से 12 मई से 15 स्पेशल ट्रेनें चलाईं थीं. जिन रेगुरल टिकटों को कैंसल किया गया है, उन्हें लॉकडाउन के दौरान तब बुक किया गया था, जब रेलवे ने जून में सफ़र करने को अनुमित दी थी.   

Source: thehindu

कोरोना वायरस के चलते हुए लॉकडाउन के बाद नियमित मेल, एक्सप्रेस, यात्री और उपनगरीय सेवाओं को 25 मार्च से निलंबित कर दिया गया था. IRCTC पर बुकिंग के पहले दिन ही भारतीय रेलवे ने 80,000 यात्रियों के लिए टिकट बुक किए थे, जो कि 16 करोड़ रुपये की कमाई थी.  

रेलवे बोर्ड ने बुधवार को एक आदेश जारी कर न केवल अपनी वर्तमान में चल रही विशेष ट्रेनों बल्कि अपनी सभी आगामी सेवाओं पर भी यात्रा के लिए 22 मई से शुरू होने वाली प्रतीक्षा सूची का प्रावधान शुरू किया है.  

रेलवे ने इन ट्रेनों में प्रतीक्षा सूची की सीमा एसी थ्री टायर के लिए 100, एसी टू टायर के लिए 50, स्लीपर क्लास के लिए 200, चेयर कार के लिए 100 और फर्स्ट एसी तथा एग्जीक्यूटिव क्लास के लिए 20-20 तय की है.