पिछले साल अक्टूबर में प्रधानमंत्री मोदी ने दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ती 'स्टेचू ऑफ़ यूनिटी', का उद्घाटन किया था.

क़रीब 3000 करोड़ रुपये की लागत से बनी ये प्रतिमा आजकल फिर चर्चा का विषय बनी हुई है. मगर किसी अच्छी वजह से नहीं.

Source: dailyexcelsior

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें स्टेचू ऑफ़ यूनिटी की गैलरी में बारिश का पानी स्टेचू ऑफ़ यूनिटी की गैलरी में बारिश का पानी इकट्ठा हुआ नज़र आ रहा है. और इसी कारण लोग सोशल मीडिया पर इसकी जम कर आलोचना कर रहे हैं.

दरअसल, सरदार वल्लभभाई पटेल की 182 मीटर ऊंची मूर्ति देखने आए पर्यटकों ने ये वीडियो अपलोड किया था.

Source: google.com

न्यूज़ एजेंसी PTI से बात करते हुए एक पर्यटक ने कहा ‘हम बहुत उम्मीद से दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति देखने आए थे. मग़र बारिश में मूर्ति को देखकर बुरा लग रहा है. अभी तो बारिश इतनी तेज़ और ज़्यादा हुई भी नहीं है और मेन हॉल और Viewing गैलरी में पानी भर गया है. ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है.

NDTV की एक रिपोर्ट के अनुसार, नर्मदा ज़िले के कलेक्टर IK Patel, जो प्रतिमा के मुख्य प्रशासक भी हैं, ने कहा कि गैलरी में पानी आना स्वभाविक था. साथ में उन्होंने ये भी बताया कि अतिरिक्त पानी निकालने के लिए चैनल बना हुआ है.

Source: ndtv.com

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि गैलरी सामने की तरफ़ खुली है और ग्रिल्स लगे हैं, जबकि पीछे की तरफ़ शीशा लगा हुआ है.

ऐसे में बारिश के वक़्त सामने से गैलरी में पानी आना स्वभाविक है. बारिश के पानी को निकालने के लिए एक चैनल बना हुआ है. लेकिन जब हवा बहुत तेज़ होती है तो बहुत पानी आ जाता है और कर्मचारियों को लगातार पानी निकालना पड़ता है. छत टपकने या रिसाव जैसी कोई बात नहीं.

हालांकि, सोशल मीडिया पर लोगों ने इस पर ख़ूब टिका-टिप्पणी की. उसकी एक झलक आप यहां नीचे देख सकते हैं.