फ़ेमस ज्वेलरी ब्रैंड तनिष्क ने हाल ही में एक विज्ञापन ऑन एयर किया था. इसके बाद कंपनी पर लव जिहाद फैलाने के आरोप लगने लगे और देखते ही देखते ट्विटर पर #BoycottTanishq ट्रेंड करने लगा. यहां तक तो ठीक था लेकिन इस सारी कॉन्ट्रोवर्सी के बीच रतन टाटा को भी घसीट लिया गया और कुछ लोग उन्हें ये विज्ञापन बनाने के लिए माफ़ी मांगने की डिमांड करने लगे.  

दरअसल, तनिष्क ने अपने एक ज्वेलरी एड 'एकत्वम' में एक गोदभराई की रस्म दिखाई थी. इसमें एक हिंदू महिला को दिखाया गया है जिसकी शादी मुस्लिम परिवार में हुई है. इसमें मुस्लिम परिवार उसकी ख़ुशी के लिए इस रस्म को हिंदू संस्कृति के हिसाब से इस रस्म को अदा करता दिख रहा है. 

इस विज्ञापन के रिलीज़ होने के बाद से ही सोशल मीडिया पर लोग इस पर लव जिहाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाने लगे. यहां देखिए लोगों की प्रतिक्रियाएं:

कॉन्ट्रोवर्सी के बढ़ने के बाद तनिष्क ने माफ़ी मांगते हुए एड को हटा लिया. 

दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर ऐसे लोग भी दिखे जिन्हें तनिष्क के एड में कुछ ग़लत नहीं लगा. उल्टा उन्होंने ऐसे लोगों को अपनी मानसिकता बदलने को कह दिया. ये देखिए:  

लेकिन इस सारे विवाद में लोगों ने रतन टाटा को भी घसीट लिया. क्योंकि गूगल पर तनिष्क सर्च करते ही टाटा ग्रूप का नाम सामने आता है. इसमें दिखता है कि तनिष्क को टाटा प्रमोट करती है और ये उसका एक उपक्रम है.

ratan tata
Source: financialexpress

इसके बाद लोग रतन टाटा से भी माफ़ी मांगने की डिमांड करने लगे. सोशल मीडिया पर इसको लेकर लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रिया मिली. कुछ इसे सही तो कुछ ग़लत बताने लगे. आप भी देखिए :

वैसे ये पहली बार नहीं है जब किसी एड को लेकर विवाद हुआ हो. इससे पहले होली पर सर्फ़ एक्सेल के एक विज्ञापन को लेकर भी कॉन्ट्रोवर्सी हो चुकी है. यहां बड़ा सवाल ये है कि क्या रतन टाटा को इस विवाद में घसीटना सही था?