मध्यप्रदेश के रतलाम में 'महिला दिवस' के अवसर पर 17 साल की एक लड़की ने कुछ ऐसा कर दिखाया जिससे न सिर्फ़ हमें बल्कि राज्य, केन्द्र सरकार भी सबक ले सकते हैं.  

Free Press Journal की एक रिपोर्ट के अनुसार, 17 वर्षीय ख़ुशी पाटीदार ने 'International Women's Day' के अवसर पर ग़रीब महिलाओं के बीच 11 हज़ार सैनिटरी पैड्स बांटकर मिसाल पेश की है.

Source: Free Press Journal

ख़ुशी ने मीडिया से बातचीत में कहा कि,  उसके पिता ने उसे साईकिल ख़रीद देने की बात कही. इस पर ख़ुशी ने अपने पिता से कहा कि वो ग़रीब लड़कियों के लिए 11000 सैनिटरी पैड्स ख़रीदे. ख़ुशी के पिता तैयार हो गये. ख़ुशी को ''वज्र कीर्तिमान सर्टिफ़िकेट' से सम्मानित किया गया और इस मौक़े पर ज़िलाधिकारी गोपालचन्द्र, एसपी गौरव तिवारी, एडिशन्ल कलेक्टर जमुना भिड़े और कुछ बीजेपी नेता भी मौजूद थे. 

Source: Free Press Journal

ख़ुशी के पिता ओम साईं राम होस्टल के मालिक हैं और जब ख़ुशी ने होस्टल में रहने वाली लड़िकयों से बात की तब उसे पता चला कि बहुत सी लड़कियां सैनिटरी पैड का इस्तेमाल नहीं करती थीं.

Source: Zee News India

ख़ुशी की जागरूकता की वजह से कई महिलाओं और लड़कियों को मदद मिल गई.