(ये आर्टिकल ScoopWhoop हिंदी के सदस्य जयंत पाठक ने लिखा है.)

क्रिकेट... एक ऐसा खेल, जिसमें गेंद की जंग होती है बल्ले से, लेकिन ये खेल इतना सिम्पल नहीं है.

क्रिकेट का वर्ल्ड कप 2019 अपने पूरे शबाब पर है लेकिन इससे भी ज़्यादा रोमंचक हो गई है संजय मांजरेकर और रविंद्र जडेजा के बीच की नोकझोंक, जो एक दूसरे को जवाब देने से आगे बढ़ कर फै़ंस द्वारा मांजरेकर को ट्रोल करने तक पहुंच गई.

मसला शुरू होता है इंग्लैड़ से हारने के बाद इंडियन टीम के बल्लेबाज़ी कोच संजय बांगर द्वारा हिंट दिए जाने से, जिसमें उन्होने बांग्लादेश के खिलाफ शायद जडेजा के टीम में आने की बात कही. इसके फ़ौरन बाद ही मांजरेकर ने अपना पक्ष बड़ी बेबाकी से रखा.

मुझे बिट्स एंड पीसेज़ खिलाड़ी पसंद नहीं, टेस्ट में जडेजा एक गेंदबाज़ हैं लेकिन 50 ओवर क्रिकेट में मैं एक बल्लेबाज़ और स्पिनर के साथ जाना चाहूंगा.

- संजय मांजरेकर

हालांकि मांजरेकर की इस बात पर भावुक होने की ज़रूरत नहीं थी क्योंकि न तो वो बीसीसीआई के मेंम्बर हैं और न ही सलेक्टर या कोच और ये इनकी पर्सनल राय थी. लेकिन ऐसे कैसे?

रविंद्र जडेजा ने मांजरेकर की इस राय का जवाब दे दिया.

जडेजा ने ट्वीट कर लिखा कि 'इन सब के बावजूद मैंने आप से दोगुने मैच खेले हैं और खेल रहा हूं, जिसने कुछ हासिल किया हो उसकी इज़्ज़त करनी चाहिए. मैंने आपकी बकवास बहुत सुन ली.

- रविंद्र जडेजा

ये तो इन दो लोगों के बीच हुई बात थी. इसके बाद तो असली लड़ाके मैदान में उतरने बाकी थे. लोगों ने सोशल मीडिया पर जम कर जडेजा का साथ दिया और मांजरेकर पर अपनी दिन की बची भड़ास निकाली. लोगों ने कॉमेंट्री से ही मांजरेकर को हटाने से ले कर पता नहीं क्या-क्या बोल डाला.

खेलो ही तो है यार, मरने-मारने पर मत उतरा करो.