आपने गजनी फ़िल्म तो देखी ही होगी. इस मूवी में आमिर ख़ान की याददाश्त बस थोड़ी देर के लिए ही रहती है. ये एक मेमोरी डिसॉर्डर था. इसे Anterograde Amnesia या आम भाषा में शॉर्ट टर्म मेमोरी लॉस कहा जाता है.

pconline

इस बीमारी में इंसान अपनी पुरानी घटनाओं को याद नहीं रख पाता. पीड़ित शख़्स की कुछ सेकेंड से लेकर कई दिनों तक की यादें पूरी तरह भूल जाता है.

हालांकि, जब आपने फ़िल्म में देखा होगा, तो ये आपको बस एक फ़िल्मी कहानी लगी होगी. मगर आपको बता दें, ये सिर्फ़ रील लाइफ़ में ही नहीं, बल्कि रियल लाइफ़ में भी होता है. जर्मनी में एक ऐसा ही शख़्स है, जिसे अपनी पिछली ज़िंदगी का कुछ भी याद नहीं रहता. इस रियल लाइफ़ गजनी (Real Life Ghajini) का नाम डेनियल श्मिट (Daniel Schmidt) है.

timesnownews

डेनियल हर 6 घंटे बाद अपनी पिछली ज़िंदगी भूल जाता है. उसे पहले की कोई भी घटना और जानकारी याद नहीं रहती है. ‘Six-Hour Memory’ वाले डेनियल अगर अपनी पिछली ज़िंदगी नोट न करते रहें, तो उन्हें गुजरा कुछ भी मालूम नहीं पड़ेगा. डेनियल की इस गंभीर स्थिति का अंदाज़ा आप ऐसे लगा लीजिए कि उन्हें अपने बेटे का जन्म लेना तक याद नहीं है.

maketosimplify

बता दें, डेनियल के साथ हमेशा से ऐसा नहीं था. उनकी इस हालत के पीछे कारण बना क़रीब 6 साल पहले हुआ एक एक्सीडेंट. जब वो अपनी बहन से मिलने जा रहे थे, तो रास्ते में उनका भयानक एक्सीडेंट हो गया. उनकी कार को ट्राफ़िक जाम में पीछे से आ रही एक तेज़ रफ़्तार कार ने टक्कर मार दी थी. 

इस हादसे में उन्हें काफ़ी गंभीर चोटें आई थीं. उन्हें एयरलिफ़्ट कर हॉस्पिटल पहुंचाया गया. इलाज के दौरान उनकी जान तो बच गई, मगर दिमाग़ पर गहरी चोट के चलते उनकी याददाश्त चली गई.

इस हादसे ने उनकी याददाश्त छीन ली. फिजियोथेरेपी और स्पीच थेरेपी से वो कुछ बेहतर हुए हैं. अब वो अपने दिनभर की सटीक जानकारी डायरी में नोट करते हैं, ताकि उन्हें बाद में चीज़ें याद रहें.