साध्वी प्रज्ञा ख़बरों में रहना जानती है. अभी हाल ही में प्रज्ञा ने मुंबई आतंकी हमलों के शहीद हेमंत करकरे के लिए कहा था कि उनकी मृत्यु प्रज्ञा के श्राप के कारण हुई. काफ़ी कंट्रोवर्सी के बाद प्रज्ञा ने अपने शब्द वापस लिए थे. बीजेपी ने इस बयान पर खेद जताया था लेकिन भोपाल से प्रज्ञा को MP के तौर पर उतारना उनकी मंशा साफ़ ज़ाहिर करता है.

प्रज्ञा एक बार फिर से ख़बरों में है. इस बार उसके बयान ने मुताबिक़, उसने महात्मा गांधी के हत्यारे, नाथूराम गोडसे को देशभक्त कहा है. भोपाल में अभी आम चुनावों के लिए वोटिंग नहीं हुई है. प्रज्ञा का ये बयान चुनाव से पहले ही आया है.

एक पत्रकार के 'हिन्दू आतंकवाद' से जुड़े सवाल पर प्रज्ञा ने जवाब देते हुए कहा, नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, हैं और रहेंगे. उन्हें आतंकवादी बोलने वाले लोगों को स्वयं के गिरेबान में झांक कर देखना चाहिए. अबकी चुनाव में ऐसे लोगों को जवाब दे दिया जाएगा.

- साध्वी प्रज्ञा

प्रज्ञा ने जैसे ही ये बयान दिया, ट्विटर पर इसका तगड़ा रिएक्शन टूट पड़ा:

बीजेपी ने एक बार फिर प्रज्ञा के बयानों से ख़ुद को दूर करते हुए इसकी निंदा की है. ANI के ट्वीट के अनुसार, बीजेपी ने कहा है कि वो प्रज्ञा को इस बयान के लिए जवाबतलब करेगी और उसे इस बयान के लिए माफ़ी मांगनी चाहिए.

MP में चुनाव कुछ ही दिनों में होने वाले हैं. यहां की जनता इस वक़्त हर नेता, हर पार्टी को देख रही है और वोट करने के लिए अपना मन बना चुकी है.