कश्मीर की पहली Power Lifter बन गई हैं साइमा उबैद. ANI की न्यूज़ के अनुसार, साइमा पहली कश्मीरी महिला है जिसने Power Lifting में करियर चुना. सिर्फ़ इतना ही नहीं साइमा ने इस खेल में स्वर्ण पदक भी जीता. 

The Daily Guardian की रिपोर्ट के अनुसार, साइमा को उसके पति, उबैज़ हाफ़िज़ ने ट्रेनिंग दी. हाफ़िज़ ने ख़ुद भी एक Power Lifter हैं. दिसंबर 2020 में हुए चौथे Kashmir Powerlifting, Benchpress और Deadlift Championship का आयोजन किया गया था. साइमा ने 255 किलोग्राम वज़न उठाकर इस प्रतियोगिता में गोल्ड मेडल हासिल किया. 

साइमा ने बताया कि वो दूसरी महिलाओं को प्रेरित करना चाहती हैं.  

शादी और एक बच्चे के बाद भी मैंने इस सपोर्ट को जारी रखा क्योंकि मैं दूसरी महिलाओं को ये दिखाना चाहती थी कि अगर वो चाहें तो कुछ भी हासिल कर सकती हैं. समाज का दबाव उन्हें अपने सपनों को पाने से नहीं रोक सकता. 

                    - साइमा उबैद

हाफ़िज़ ने बताया कि उसने साइमा में वेट्स उठाने का नैचुरल स्ट्रेंथ देखा, ये Powerlifting के लिए ज़रूरी है. इसके बाद हाफ़िज़ ने ही साइमा को Powerlifting शुरू करने का आईडिया दिया और साइमा ने भी हामी भर दी.  

लड़के और लड़कियों में कोई फ़र्क नहीं होता. हर क्षेत्र में लड़कियों ने अपने टैलेंट से ये साबित किया है. माता-पिता को लड़कियों को फ़िट रहने के लिए प्रेरित करना चाहिए. 

                    - साइमा उबैद

साइमा श्रीनगर में फ़िटनेस ट्रेनर है और उन्होंने सभी पतियों को ये संदेश दिया कि उन्हें अपनी पत्नी का 'बेस्ट फ़्रेंड' बनने की कोशिश करनी चाहिए.