DNA कमाल की चीज़ है. इसकी मदद से कई बीमारियों का समय से पहले ही पता लगाया जा सकता है और ये अपराधियों को भी सलाखों के पीछे पहुंचाने में मदद करता है. अब इसकी मदद से वैज्ञानिकों ने एक और कामयाबी हासिल कर ली है. उन्होंने डीएनए की हेल्प से हमारे 75,000 पहले के पूर्वजों की तस्वीर बना डाली है.

ये कामयाबी इज़रायल के वैज्ञानिकों ने हासिल की है. उन्होंने 75,000 साल पाए जाने वाली मानव प्रजाति Denisovans की तस्वीर बनाई है. Denisovans हमारे पूर्वजों की वो प्रजाति है, जो तकरीबन 1 लाख साल पहले एशिया और साइबेरिया में पाई जाती थी. इनके बारे में बहुत कम सुराग धरती पर मौजूद हैं.

Denisovan Ancestors
Source: news18

वैज्ञानिकों के पास इनके तीन ही अवशेष मौजूद थे. इनमें तीन दांत, Pinky Bone और निचला जबड़ा शामिल है. ये अवशेष एक लड़की के थे जो दक्षिणी साइबेरिया में डेनिसोवा नामक एक गुफ़ा में एक दशक पहले मिले थे.

इनकी मदद से ही वैज्ञानिकों ने Denisovans का डीएनए तैयार किया और ये पता लगाने में कामयाब हुए कि वो कैसे दिखाई देते थे. इज़रायल की Hebrew University में हुई इस रिसर्च में प्रोफ़ेसर Liran Carmel भी शामिल थे.

उन्होंने इस बारे में बात करते हुए कहा- 'DNA Sequences से मानव का Anatomical Profile बनाना काफ़ी मुश्किल है. अगर ये आसान होता तो, पुलिस बहुत ही आसानी से अपराधियों के डीएनए से उनका प्रोफ़ाइल बनाकर जेल में डाल देती.'

Carmel ने बताया कि उनकी टीम ने तीन साल तक डीएनए में हुए रासायनिक बदलावों पर शोध किया था. फिर उन्होंने Denisovans, Neanderthals और आधुनिक मनुष्य के डीएनए से इनकी तुलना की.

Denisovan Ancestors
Source: allthatsin

इनकी मदद से ही वैज्ञानिक 86 फ़ीसदी Denisovans जैसे दिखने वाले शख़्स की तस्वीर बना पाए. उन्होंने ये भी बताया कि Denisovans, Neanderthals और आधुनिक मनुष्य में 56 अंतर भी पाए गए हैं.

वैज्ञानिकों का मानना है कि कई मायनों में Denisovans, Neanderthals से मेल खाते थे. इनके कुछ लक्षण आधुनिक मानव से मेल खाते थे और कुछ मायनों में वो अनूठे थे.

Denisovan Ancestors
Source: reverence

शोधकर्ताओं का कहना कि उन्हें इस बात का नहीं पता कि Denisovans कैसे विलुप्त हुए. लेकिन इनकी मदद से वो कुछ साल पहले चीन में मिली एक खोपड़ी पर रिसर्च करेंगे और पता लगाएंगे कि ये खोपड़ी किसकी है. ऐसा दावा किया जाता है कि ये खोपड़ी Denisovans की ही थी.

ये रिसर्च हमारे पूर्वजों के रहन सहन और वो कैसे विलुप्त हुए इसके बारे में जानने में हमारी मदद करेगी.

इस तरह के और आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.