बीते सोमवार को लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई मुठभेड़ में भारत के 20 जवान शहीद और कई घायल हो गये. इन 20 सैनिकों में से एक थे राजेश ओरांग. 

Source: India Today

एक रिपोर्ट के अनुसार, राजेश अपने परिवार से मिलने पिछले महीने घर जाने वाले थे लेकिन लॉकडाउन की वजह से उन्हें रुकना पड़ा और अब उनका परिवार उनके तिरंगे में लपटे शव की प्रतीक्षा कर रहा है.  

पश्चिम बंगाल के बीरभूम के राजेश, 16 बिहार रेजिमेंट के जवान थे. राजेश पिछले 6 साल से सेना में थे. कुछ दिनों पहले ही राजेश के रेजिमेंट को गलवान घाटी में तैनात किया गया था. राजेश के चचेरे भाई,देवाशीष ने India Today से बात-चीत में बताया कि राजेश के लिए वधू की तलाश की जा रही थी. राजेश के पिता किसान हैं. 

Source: Telegraph India

चीनी सैनिकों से मुठभेड़ के बाद बीते मंगलवार को राजेश को अस्पताल में भर्ती किया गया था. मंगलवार शाम तक उनके परिवार को उनकी शहादत की ख़बर मिली.

India Today की रिपोर्ट के मुताबिक़, राजेश के पूरे परिवार की ज़िम्मेदारी राजेश पर ही थी. उनके पिता बेहद बीमार हैं और काम-काज नहीं कर पाते. राजेश की बहन की भी शादी होनी थी. राजेश की आय पर ही पूरे परिवार का ख़र्च चलता था.   

राजेश के भाई ने सरकार से मदद की अपील की है.