दिल्ली के शाहीन बाग़ में नागरिकता संशोधन क़ानून का विरोध कर रहे लोगों ने बीते रविवार को हिन्दू शवयात्रा के लिए जगह खाली की.


India Today की रिपोर्ट के अनुसार, शाहीन बाग़ की इस नेक़दिली ने सबका दिल जीत लिया.

वाकये पर बात करते हुए एक प्रदर्शक ने कहा, 'हम एक दूसरे का सम्मान करते हैं इसलिए हमने शवयात्रा के लिए जगह छोड़ी, हमने कुछ अलग-थलग नहीं किया. हमने बसों और ऐम्बुलेंस को भी जगह दी है.'

Source: Scroll

शाहीन बाग़ में प्रदर्शन कर रहे लोगों पर बहुत ज़्यादा छींटा-कशी की गई है. कभी नेताओं ने उन्हें 500 रुपये रोज़ाना और बिरयानी के बदले विरोध करने वाला बताया गया. तो कभी बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ने ये कहा कि शाहीन बाग़ के लोगों को खुला छोड़ा गया और रोका नहीं गया तो वे रेप और मर्डर करेंगे. वर्मा ने ये भी कहा कि दिल्ली में बीजेपी की सरकार आती है तो 1 घंटे में शाहीन बाग़ को साफ़ कर दिया जायेगा.

Source: India Today

शाहीन बाग़ के प्रदर्शकों में सिर्फ़ एक धर्म के ही लोग नहीं हैं. यहां हो रहे शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर कुछ दिनों पहले एक शख़्स ने गोली भी चलाई थी.