देश की राजनीति महिला सुरक्षा को लेकर लाख दावे ही क्यों न कर ले, लेकिन हक़ीक़त ये है कि 21वीं सदी में भी महिलाएं पूरी तरह से सुरक्षित नहीं हैं. महिलाओं के आत्मसम्मान को लेकर रही बची क़सर हमारे नेतागण अपने शर्मनाक बयानों से पूरा कर देते हैं. 

Source: indianexpress

इस बीच केरल प्रदेश कांग्रेस कमिटी के चीफ़ एम. रामचंद्रन ने भी रेप का शिकार हुई महिलाओं को लेकर एक ऐसा ही शर्मनाक बयान दिया है. बीते रविवार को केरल में हुई यूडीएफ़ की एक बैठक के दौरान जनता को संबोधित करते हुए रामचंद्रन भाषा की मर्यादा भूल गए और सीएम को निशाना बनाने के चक्कर में महिलाओं को केलर आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी.  

Source: navbharattimes

बैठक के दौरान रामचंद्रन ने 'सोलर स्कैम' से जुड़ी एक महिला को लेकर आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग किया. इस दौरान रामचंद्रन ने कहा, 'कोई भी उस महिला (सोलर स्कैम में आरोपी) पर भरोसा नहीं कर सकता. अगर सीएम सोचते हैं कि वो एक सेक्स वर्कर से हमें निशाना बना लेंगे, वो ये समझ लें कि राज्य की जनता उनपर भरोसा नहीं करेगी'.  

Source: indiatoday
अगर कोई कहेगा कि उसके साथ एक बार रेप हुआ है तो इस बात को समझा जा सकता है, लेकिन वो कह रही है कि सभी ने उसका रेप किया है. अगर रेप पीड़ित महिला में आत्मसम्मान होगा तो वो एक बार रेप होने पर ही आत्महत्या कर लेगी या रेप को दोबारा होने से रोकेगी.  
Source: mathrubhumi

विवाद होने के बाद रामचंद्रन ने मांगी माफ़ी  

रामचंद्रन के इस बयान पर कुछ ही देर में विवाद शुरू हो गया. मीडिया से लेकर सोशल मीडिया पर आलोचना होने के बाद रामचंद्रन ने माफ़ी मांगते हुए कहा, मैं अपने बयान पर बिना शर्त माफ़ी मांगता हूं. मेरे बयान का उद्देश्य किसी को आहत करना नहीं था. कुछ ऐसे अभियान चलाए जा रहे हैं कि वो बयान महिला विरोधी था, लेकिन असल में ऐसा नहीं है. 

Source: manoramaonline

बता दें की रामचंद्रन ने अपने बयान में 'सोलर स्कैम' की जिस महिला का जिक्र किया था, उसने पूर्व में केरल के पूर्व सीएम ओमान चांडी समेत कांग्रेस के कई बड़े नेताओं पर लाभ दिलाने के लिए सेक्शुअल फ़ेवर्स लेने का आरोप लगाया था.