तिरुवनंतपुरम पुलिस ने एक शख़्स के घर से उसकी मां को बचाकर बाहर निकाला. 75 वर्षीय महिला को उसके बेटे ने बांधकर रखा था.


The News Minute की रिपोर्ट के मुताबिक़, ललिता को Liver Cirrhosis है और वो अपने छोटे बेटे विजयकुमार के साथ रह रही थी. ललिता का ढंग से इलाज भी नहीं करवाया जा रहा था.

बीते गुरुवार को ललिता की बेटी, एल.जया और पड़ोसियों ने पुलिस को ख़बर दी कि उन्हें ललिता से मिलने नहीं दिया जा रहा और उसे घर के अंदर बंद रखा गया है.

The News Minute से बातचीत करते हुए बलरामपुर सर्कल इंस्पेक्टर, बिनुकुमार ने बताया,

'जब हम वहां पहुंचे तो कंपाउंड के दरवाज़े और घर बंद था. कुछ पड़ोसी और महिला की बेटी बाहर खड़े थे. पड़ोसियों ने हमें बताया कि उन्हें कभी-कभी महिला के रोने की आवाज़ें आती थी. महिला का बेटा दरवाज़ा खोलने को तैयार नहीं था इसलिए हमें ज़बरदस्ती दरवाज़ा खुलवाना पड़ा.'

सर्कल इंस्पेक्टर ने ये भी बताया कि महिला बिना ढंग के कपड़ों के एक बंद कमरे में पड़ी थी और उसके ज़ख्मों पर कीड़े लग गए थे.


पुलिस ने ये भी बताया कि परिवार में ललिता के अकाउंट में पड़े कुछ पैसों को लेकर विवाद चल रहा था.

ललिता के पोते, सतीश ने The News Minute को बताया,

मेरी दादी के अकाउंट में 15 लाख हैं जो दादा जी की मृत्यु के बाद उनके अकाउंट में आए थे. उनके दोनों बेटों और बेटियों का उस पैसे पर बराबर का हक़ था पर विजयकुमार ख़ुद सारा पैसा हड़पना चाहता था. कोर्ट में इस मसले पर केस भी चल रहा है. वो किसी रिश्तेदार को दादी से मिलने नहीं देता था.

- सतीश

सतीश ने ये भी बताया कि विजयकुमार ने ललिता का इलाज रोक दिया था और उसे प्रताड़ित करता और प्रताड़ना के वीडियोज़ भेजा करता.


एक वीडियो में विजयकुमार उस पर ख़ुद से नहाने और कपड़े न पहन पाने के लिए चिल्लाते हुए नज़र आ रहा है. वो अपनी पत्नी से किचन का दरवाज़ा बंद करने को कह रहा है ताकी ललिता जाकर कुछ खा न पाए.

पुलिस ने विजयकुमार को गिरफ़्तार कर लिया है.