अभिनेता सोनू सूद ने छात्रों को अपना समर्थन दिया है. सोशल मीडिया पर वीडियो के ज़रिये सूद ने कहा कि जब देश में लॉकडाउन (Lockdown) की बातें चल रही है तो ऐसे में छात्रों का ऑफ़लाइन एग्ज़ाम्स (Offline Exams) करवाना ठीक नहीं है.  

ये भी पढ़िए- कभी अकेले मनाया था जन्मदिन... अभिनेता सोनू सूद ने इंटरव्यू में शेयर की पुरानी बातें 

सोनू सूद ने कई देशों का उदाहरण देते हुए छात्रों को सुरक्षित महसूस करवाने की बात कही. सूद ने कहा कि जब सउदी अरब (Saudi Arabia) में सिर्फ़ 600 केस, मेक्सिको (Mexico) में सिर्फ़ 1300 और कुवैत (Kuwait) में सिर्फ़ 1500 केस थे तब वहां परिक्षायें रद्द कर दी गई थीं.  

भारत में 1.45 लाख केस होने पर हम परिक्षायें करवाने की सोच रहे हैं जो ठीक नहीं है. सूद ने परिक्षायें करवाने के किसी दूसरे तरीके (Alternate Method) जैसे इंटर्नल एसेसमेंट (Internal Assessments) पर बल दिया. हर छात्र को जो परिक्षायें नहीं देना चाहता को सोनू सूद ने अपना समर्थन दिया.

वीडियो कैप्शन (Video Caption) में सोनू सूद ने सभी को छात्रों का समर्थन करने को कहा. सूद ने बढ़ते केस के बीच इतनी ज़िन्दगियां ख़तरे में डाले जाने का विरोध किया.   

वीडियो पर लोगों की प्रतिक्रिया-  

सोनू सूद ने कोविड-19 वैक्सीन (Covid19 Vaccine) के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिये Sanjeevani A Shot of Life मुहीम की शुरुआत की है. बीते 7 अप्रैल को सोनू सूद ने वैक्सीन का पहला डोज़ भी लिया और ट्विटर पर इसकी जानकारी दी.

2020 लॉकडाउन (Lockdown) में सोनू सूद रियल लाइफ़ (Real Life) हीरो बनकर उभरे. लाखों लोगों की मदद करके उन्होंने ये साबित कर दिया कि किसी की मदद करने के लिये दिल बड़ा होना चाहिये. माइग्रैंट लेबर्स (Migrant Labors) को घर भेजने से लेकर, उनके खाने-पीने और अपने पैरों पर खड़े होने तक की व्यवस्था सोनू सूद ने की. सोनू सूद ने नौकरी खो चुके कई शिक्षित युवाओं को नौकरियां भी दीं. इसके साथ ही विदेशों में फंसे भारतीयों की स्वदेश वापसी सुनिश्चित की.